पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकृत करने का निर्णय:अपने ही टारगेट को हासिल नहीं कर पा रहा है विभाग, 50 फीसदी भी नहीं हुआ टीकाकरण

बक्सरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्रामीण इलाकों में वैक्सीनेशन बंद होने से प्रवासी श्रमिक परेशान, 20 के बाद गति पकड़ेगा अभियान

जिले में वैक्सीन की कमी से लोग परेशान हैं। जिस वैक्सीन के लिए इतना प्रचार प्रसार व अधिकारियों से लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा प्रचार प्रसार किया गया लोग जागरूक भी हुए परंतु जब वैक्सीन लेने की बारी आई तो वैक्सीन का टोटा पड़ गया। अब हालात यह है कि रोजाना वैक्सीन की तलाश में लोग पीएचसी व एपीएचसी से बैरंग वापस लौटते हैं।

बता दें कि राज्य सरकार ने जुलाई 2021 से अगले 6 महीने तक 6 करोड़ लोगों को टीकाकृत करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। लेकिन समय पर लक्ष्य की प्राप्ति हो सके इसके लिये डीएम अमन समीर ने अगले 6 माह में बक्सर जिले के लगभग 12 लाख लोगों को टीकाकृत करने का निर्णय लिया था। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य समिति के अधिकारियों का मानना था कि यदि हम एक दिन में 15 हजार से अधिक लोगों को टीकाकृत कर सकते हैं, तो छह माह में 12 लाख लोगों को टीका देने का लक्ष्य पुरा किया जा सकता है। परंतु आंकड़े कुछ और बता रहे हैं।

लक्ष्य के 50 फीसदी भी नहीं हुआ टीकाकरण
जिले में जुलाई महीने के यदि स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों पर नजर दौड़ाई जाए तो रोजाना लगभग 7000 डोज लगाना पड़ता। अब तक इस हिसाब से लगभग 49000 डोज लग जाने चाहिए थे। यदि रोजाना 15 हजार डोज लगाया जाता तो अब तक एक लाख डोज लगाए जाते परंतु अब तक 25545 डोज हीं लगाए जा सके। वैक्सीन की उपलब्धता नहीं रहने के कारण वैक्सिनेशन रफ्तार नहीं पकड़ रहा है। सवाल यह है कि यदि इस गति से टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जाए तो डेढ़ से दो साल लगेंगे।

20 जुलाई के बाद बढ़ेगी रफ्तार
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. राजकिशोर सिंह ने बताया जिले में वैक्सिनेशन की रफ्तार में कमी नहीं है। वैक्सीन कम आ रहा है। इसलिए परेशानी बढ़ी है। वैक्सीन आने के बाद जिले के शहरी क्षेत्रों को 20 जुलाई तक शत प्रतिशत वैक्सिनेट करने का निर्णय लिया गया है। जैसे जैसे टीका की उपलब्धता होगी वैसे वैसे टीकाकरण कार्यक्रम गति पकड़ेगा। उम्मीद है 20 जुलाई के बाद वैक्सिनेशन अभियान तेज होगा।

खबरें और भी हैं...