पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

थोड़ी राहत:दो दिनों में 14 सेमी गिरा जलस्तर, पर अगले 3 दिनों में हो सकती है तेज वृद्धि

बक्सर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंगा नदी के जलस्तर में गिरावट से कम हुई जिला प्रशासन की चिंता, लेकिन अब भी तटबंधों की होगी निगरानी

जिले में बाढ़ प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों की चिंता फिलहाल अभी कम हुई है। दो दिनों से गंगा के जलस्तर में गिरावट दर्ज की जा रही है। इस संबंध में बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल विभाग के अनुसार मंगलवार की सुबह आठ बजे तक 11 सेंटीमीटर गिरावट दर्ज किया गया है। वहीं, सोमवार को 24 घंटों में तीन सेंटीमीटर गिरावट हुई है। कार्यपालक अभियंता एजाज कलीम ने बताया की फिलवक्त गंगा का जलस्तर 53.35 मीटर पहुंच गया है और अभी भी गिरावट जारी हैं। हालांकि, जलस्तर में गिरावट की गति धीमी है। लेकिन, अभी खतरे की कोई बात नहीं है।

दूसरी ओर केंद्रीय जल आयोग से मिली जानकारी के अनुसार पहाड़ों पर हो रही बारिश से मैदानी इलाकों की नदियां उफान पर हैं। बिजनौर बैराज से लगातार पानी आगे की ओर छोड़ा जा रहा है। जिले में भी गंगा का जलस्तर इसके चलते बढ़ सकता है। बिजनौर बैराज से सोमवार को भी 32 हजार क्यूसेक पानी गंगा में छोड़ा गया। इससे जिले में गंगा का जलस्तर बढ़ेगा। यदि यमुना में भी पानी का दबाव बढ़ गया तो प्रभावित इलाकों में लोगों की मुश्किलें बढ़ जाएगी।

तटवर्ती इलाकों में सब्जियां व फसल हुई बर्बाद:  गंगा के जल स्तर में बीते दिनों वृद्धि होने के बाद तटवर्ती इलाकों के खेतों में पानी चढ़ने लगा था। जिसके कारण सब्जियों व फसलों की खेती करने वाले किसानों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। 

खेतों में पानी लगने से प्रभावित हो रहा उत्पादन: बारिश के दिनों में सब्जियों का उत्पादन प्रभावित हाेता है। हालांकि इस बार वैसी बारिश नहीं हुई जिससे सब्जियों पर असर पड़े। लेकिन, गंगा के जलस्तर में बढ़ोत्तरी से बरसाती नदियां व सहायक नदियों में पानी बढ़ गया। जो गंगा के दियारा इलाकों में खेतों में फैल गया है। ऐसे में खेतों में पानी लगने के कारण सब्जियों के उत्पादन पर असर पड़ रहा है। जिसके कारण सब्जियों की कीमतों में वृद्धि हो रही है।

बाढ़ नियंत्रण को तैयारी में जुटा प्रशासन
बाढ़ के संभावित खतरे को देखते हुए मुख्य सचिव ने डीएम को बाढ़ की तैयारी हेतु पूर्व से ही अपेक्षित नावों का प्रबंध करने तथा ससमय नाविकों की मजदूरी भुगतान का निर्देश दिया है। निर्देश के आलोक में जिला प्रशासन तैयारी में जुट गया है। तटबंधों की सुरक्षा व अन्य कार्याें के लिए जल संसाधन विभाग के प्रतिवेदन पर गृहरक्षकों की तैनाती करने, पथ निर्माण विभाग को बाढ़ से पूर्व सड़कों की मरम्मत करने तथा बाढ़ पीड़ितों के शरणस्थली को चिह्नित किया जा चुका है। ताकि बचाव व सहायता कार्य में व्यवधान नहीं आए।

जिला प्रशासन ने दूरसंचार विभाग को संचार योजना तैयार करने, वायरलेस सिस्टम को दुरुस्त करने का निर्देश दिया है। जिले के सभी विभागों के अधिकारियों का टेलीफोन नंबर सरकार को भेजा जा रहा है ताकि जरूरत के अनुसार अधिकारियों से सीधा संपर्क किया जा सके। डीएम अमन समीर ने प्रभावित इलकों के अंचलाधिकारी को तटबंध की सुरक्षा पर निगरानी रखने, बाढ़ से पूर्व लोगों को सचेत करने, नाव की क्षमता निर्धारित करने तथा नाव दुर्घटना की स्थिति में पीड़ित परिजनों को तुरंत अनुग्रह अनुदान उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें