छपरा में डूबने से मासूम की मौत:जिस शौचालय को बनवाने के लिए पाई पाई जोड़ रही थी मां, उसी में डूबने से 4 वर्षीय मासूम बेटे की हुई मौत

छपरा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मासूम की मौत पर रोता-बिलखता परिवार। - Dainik Bhaskar
मासूम की मौत पर रोता-बिलखता परिवार।

छपरा के बनियापुर की सरेया में शौचालय की अर्धनिर्मित टंकी में डूबने से गुरुवार की शाम चार वर्षीय बालक की मौत हो गई। मृतक कन्हैया महतो का पुत्र रेयांस कुमार बताया जाता है। मासूम की मौत से पूरा मुहल्ला गमगीन हो गया है। मृतक रेयांस छह भाई बहनों में सबसे छोटा था।

बच्चे को छोड़ दैनिक मजदूरी करने गई थी मां

दरअसल मृतक की मां माला देवी सुबह में बच्चो को घर पर छोड़ कर मजदूरी करने गयी थी। जब वह घर लौटी तब उसका छोटा बेटा उसे नहीं दिखा। उसने छोटे बेटे रेयांस के विषय में बच्चों से पूछताछ की। किसी ने भी रेयांस के विषय में उचित जवाब नहीं दिया। फिर माला ने बेटे की खोजबीन शुरू कर दी। खोजबीन के दौरान ही उसने घर के पीछे बने अर्द्धनिर्मित शौचालय के खुली टंकी में बच्चे को उपलाते देखा। बेटे को पानी भरे शौचालय की टंकी में उपलाते देख वह जोर जोर से चीखने लगी। चीख पुकार सुन आसपास के लोग मौके पर जूट गए। बच्चा को आनन फानन में टंकी की पानी से निकाल ईलाज के लिए रेफ़रल अस्पताल बनियापुर लाया गया। जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। ग्रामीणों ने बताया कि अर्द्धनिर्मित टंकी के खुले होने के कारण उसमें बरसात का पानी भर गया है। अंदेशा जताया जा रहा है कि खेलने के दौरान ही बच्चा टंकी की पानी में गिर गया होगा।

मजदूरी कर बड़े शौक से बनाया था शौचालय

जिस शौचालय को बनवाने के लिए मृतक की मां माला देवी मजदूरी कर पाई पाई जोड़ रही थी। आज वही शौचालय उसके मासूम बच्चे की मौत का कारण बन गया। मां माला देवी को कलेजे से बेटे को लगा कर दहाड़े मरते देख लोगों की आंखे नम हो गई थी। इधर, भाई की मौत पर तीनों बड़ी बहनें और दोनो भाइयों की गला रुंध गई थी।

खबरें और भी हैं...