पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्वच्छता के प्रति जागरूकता:हरियाली को बढ़ावा देने के लिए स्कूलों में की जाएगी ग्रीन स्टार ग्रेडिंग, बच्चों व अभिभावक को किया जाएगा जागरूक

छपरा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पर्यावरण को संरक्षित करने व गांव-गांव में हरियाली के बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार प्रदेश के स्कूलों की ग्रेडिंग कराएगी। इसके लिए बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण प्रदूषण नियंत्रण पार्षद ने मानक तैयार किया है। यहां बता दें कि ग्रीन स्टार ग्रेडिंग में हरियाली को प्रमुखता दी गई है। जिस स्कूल के परिसर में जितनी हरियाली होगी उसे उतने ही अधिक अंक प्रदान किए जाएंगे। उसका लाभ स्कूल कितना उठा रहे है उसे देखा जायेगा। विद्यालय को वर्षा जल संरक्षण के आधार पर भी स्कूलों के अंक मिलेगे। स्कूलों में कचरा निष्पादन व शौचालय को भी देखा जाएंगा ,वर्मी कंपोस्ट का निर्माण भी एक मानक होगा।

सरकार द्वारा निर्धारित पौधरोपण कार्यक्रम में स्कूल के प्रधानाध्यापकों एवं स्कूल संचालकों ने सहभागिता अहम होगी। पौधारोपण की तकनीक के संबंध में वन विभाग द्वारा एक प्रचार सामग्री भी तैयार की गई है। पौधों की सुरक्षा एवं उनके पटवन की व्यवस्था स्कूल की ओर से की जाएगी। इसमें विद्यालय में गठित ईको क्लब, एनएसएस, बाल संसद, मीना मंच, उन्नयन मंच आदि से सहयोग प्राप्त किया जाएगा। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य बच्चों में जागरुकता लाना है। जिससे कि वो अपने माता-पिता को जागरूक कर सके और गांव को हरा-भरा बना कर पर्यावरण को असंतुलित होने से बचा सके।

अधिकारियों की माने तो हाल के दिनों में हरियाली बढ़ीं है। लेकिन पर्यावरण के प्रति बच्चों को जागरूक करना बहुत जरूरी है। क्योंकि बच्चे ही हमारे देश के भविष्य है अगर एक बच्चा पौधरोपण के प्रति जागरूक हो गया तो वह कम से कम चार लोगों को जागरूक करेगा। जिसका परिणाम होगा कि एक घर से कम से कम चार पौधे लगेंगे। इसलिए सरकार ने निर्णय लिया है कि ग्रीन स्टार ग्रेडिंग कराने से बच्चों में पर्यावरण एवं स्वच्छता के प्रति जागरूकता आयेगी। स्वच्छता व सौर ऊर्जा के आधार पर ग्रेडिंग होगी। हालांकि इन दिनों कोरोना की वजह से स्कूल बंद है।

खबरें और भी हैं...