पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जलजमाव की समस्या:शिवरहिया में तेज हवा से गांव की सड़क पर पेड़ गिरने से आवागमन हुआ बाधित

डोरीगंज24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

यास तूफान के कहर से लोग अभी भी ऊबर नहीं पाए है एक तरफ लगातार बारिश के कारण लोग जलजमाव की समस्या से परेशान है। तो वहीं दूसरी तरफ सड़कों पर टूटकर या उखड़कर गिरे पेड़ों के कारण भी लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ताजा मामला सदर के विष्णुपुरा पंचायत स्थित शिवरहिया गांव की है। जहां दो दिन पूर्व तेज हवा के साथ लगातार हुई बारिश के कारण गांव के मध्य स्थित विशाल एक पीपल का पेड़ उखड़कर एक विद्युत पोल को क्षतिग्रस्त करते हुए सड़क के बीचोंबीच जमीन पर आ गिरा। जिससे गांव की विद्युत आपूर्ति घंटों बाधित रही।

वहीं ग्रामीणों के मुताबिक इसकी सूचना जब विभाग को दी गई तो कर्मी तुरंत घटना स्थल पर पहुच पोल की मरम्मती कर आपूर्ति बहाल करा दिया। जिससे ग्रामीणों को बड़ी राहत मिली किन्तु गांव के तीन मुहाने पर सड़क के बीचोंबीच गिरे इस पेड़ के कारण लोगों का एक तरफ से दूसरी तरफ पैदल निकलना भी मुश्किल हो गया है। ग्रामीणों के मुताबिक दो हिस्सों मे बंटे इस गांव की आबादी के लिए आवागमन पर पूरी तरह ब्रेक लग गया है। जिसके कारण क्षेत्र जानकी बाजार पिरौना पिरारी मीनापुर जिल्काबाद बरबकपुर सरवाडीह आदि समेत गड़खा प्रखंड के दर्जनों गांवों के मार्ग पूरी तरह बंद हो गया है।

इस दौरान एक महिला की डिलिवरी के लिए गड़खा से छपरा आ रही एक एम्बुलेंस भी सड़क के दूसरी ओर घंटों खड़ी नजर आई। जिसके दौरान महिला के परिजन बेहद लाचार दिखे। जिसे ग्रामीणों के द्वारा बैक करा एम्बुलेंस को दूसरे मार्ग से भेजा गया। ग्रामीण सुनील सिंह, मृत्युंजय सिंह व रघुवंश सिंह ने बताया कि गांव के लोगों ने निर्णय किया कि इस पेड़ को बेचकर इसका पैसा मंदिर निर्माण मे लगा दिया जाए।

जिसकी अभी बात चल ही रही थी कि गांव के किसी व्यक्ति ने वन विभाग को सूचित कर दिया जबकि जमीन गांव के एक व्यक्ति ने सरकारी स्कूल को दान कर दिया है। अब वन विभाग के अधिकारी अपना दावा पेश कर रहे है। निजी जमीन दान करने वाले व्यक्ति को इसकी बिक्री कीमत की आधी रकम देकर इसपर अपना हक जताने लगे है जो गलत है जबकि हम गांव वालों का कहना है कि यह सार्वजनिक गांव की सम्पत्ति है।

खबरें और भी हैं...