• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Saran
  • Chhapra
  • Jaiprakash University Of Chapra Made The Center Of B.Ed Exam Despite Water Everywhere; The Examinees Were Reaching With The Help Of A Tractor By Paying 30 Rupees, The Examination Was Given Between Poisonous Insects

टापू बने एग्जाम सेंटर पर ट्रैक्टर के सहारे पहुंचे परीक्षार्थी:चारो तरफ पानी होने के बावजूद B.Ed एग्जाम का केंद्र बना छपरा का जयप्रकाश विश्वविद्यालय; कीड़े- मकोड़े के बीच दी परीक्षा

छपराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रैक्टर के सहारे केंद्र पहुंचते परीक्षार्थी। - Dainik Bhaskar
ट्रैक्टर के सहारे केंद्र पहुंचते परीक्षार्थी।

शिक्षा जगत में छपरा का जयप्रकाश विश्वविद्यालय हमेशा से चर्चा में रहा है। विश्वविद्यालय एक बार फिर लापरवाह रवैया को लेकर चर्चा का विषय बना हुआ है। विश्वविद्यालय का अंगीभूत इकाई प्रभुनाथ महाविद्यालय बाढ़ के पानी मे टापू के समान हो गया है। चारो तरफ से पानी में घिरे होने के बावजूद बीएड इंट्रेंस एग्जाम का केंद्र बनाया जाना हास्यप्रद है। सरयू नदी के उफान से महाविद्यालय के चारो तरफ लबालब पानी भर गया है, जिसमे छात्रों द्वारा अपने जान को जोखिम में डालकर परीक्षा देने जा रहे है। परीक्षार्थी मजबूरन टैक्टर का सहारा लेकर कॉलेज कैंपस को पार कर रहे है।

महाविधालय परिसर पानी से लबालब होने के चलते परीक्षा देने आए छात्र स्थानीय लोगों के ट्रैक्टर से लिफ्ट लेकर पानी को पार कर रहे है। ट्रैक्टर चालक थोड़ी सी दूरी के लिए 20 से 30 रुपया किराया वसूल रहे है। बताते चले की महाविद्यालय परिसर के अंदर गड्ढा होने से ट्रैक्टर पलटने का भी डर बना रह रहा है। लेकिन अपने कैरियर के प्रति समर्पित छात्र छात्रायें जान जोखिम में डालकर पानी भरे गढ्ढे को पार कर रहे है।

जहरीले कीड़े- मकोड़े के भी काटने का डर

बताते चले कि बाढ़ के बाद ऊंचे स्थानों पर जहरीले कीड़े मकोड़े का रहवास बन जाता है। कॉलेज में भी कुछ ऐसी ही स्थिति बनी हुई है। परिसर में पानी भर जाने से तरह-तरह के कीडें मकोड़े क्लास रूम में देखने को मिल रहे है। कई बार जहरीले सांप भी देखने को मिले बावजूद इसके प्रबंधन द्वारा परीक्षा केंद्र बनाना खतरे को निमंत्रण देने के समान है।

खबरें और भी हैं...