ये हाई-वे पर खाई-वे सिस्टम कब सुधरेगा?:नयागांव से सोनपुर के बीच छपरा-पटना मुख्य मार्ग पर कई गड्‌ढे, नहीं होती मरम्मत, हर रोज दुर्घटनाएं

छपरा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चारों नेशनल हाई-वे का अब भी कमोबेस एक ही हाल

जिले में चार एनएच का कमोबेस एक ही हालत है। किसी पर गड्ढे बने है तो किसी पर ब्रेकर। लिहाजा आये दिन हादसे कम होने के बजाए बढ़ रहे है। अभी के समय में जिले में औसतन 455 लोगों की हर साल मौत सड़क हादसे में हो जाती है। इसमें सुधार की बजाय बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।

इस साल अब तक 500 से अधिक लोग हादसा में काल के गाल में समा गए। हादसा अधिक होने की वजह में सड़कों का जर्जर होना भी है। फिलवक्त छपरा-पटना मुख्य मार्ग एनएच 19 सोनपुर प्रखंड क्षेत्र एक्सीडेंट का पर्याय बन गया है। आए दिन इस मार्ग पर प्रत्येक दिन कोई ना कोई दुर्घटना घटित होती रहती है। पहली घटना शनिवार की देर शाम घटित हुई। यहां के गोपालपुर में एक बालू लदा ओवरलोड ट्रक गड्ढे में जा गिरा। ट्रक के गड्ढे में गिरते ही चीख पुकार मच गई थोड़ी देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया।

आसपास के लोगों ने ट्रक से चालक व उप चालक को निकाला हालांकि इस दुर्घटना में दोनों बाल-बाल बच गया। इस बात की जानकारी आसपास के लोगों ने मेरा गांव थाना को दी। घटना की सूचना पाकर मौके पर पुलिस पहुंच गई। घटना के बारे में बताया जा रहा है कि सड़क के किनारे सड़क खराब होने से बहुत बड़ा गड्ढा बन गया है। इसे लेकर यहां लगातार कोई न कोई दुर्घटना होती रहती है। एक महीना के अंदर यहां दो ट्रक तथा 6 बालू लदा ट्रैक्टर इस गड्ढे में पलट गया। लगातार हो रही दुर्घटना के बाद भी संबंधित विभाग इस गड्‌ढे को भरवाने के लिए कोई पहल कर रही है।

सोनपुर से दिघवारा के बीच 19 ब्रेकर, उसके बाद छपरा तक एक भी नहीं
हाजीपुर जिला मुख्यालय से छपरा जिला मुख्यालय को जोड़ने वाली एन एच 19 सोनपुर, परमानंदपुर, नायगांव, शीतलपुर, दिघवारा, डोरीगंज, जैसे कई छोटे बड़े बाजारों से होते हुए गुजरता है। एन एच 19 पर सोनपुर से दिघवारा के 28 किलोमीटर दूरी के बीच जॉइंट और सिंगल स्पीड ब्रेकर को मिलाकर कुल 19 ब्रेकर बने हुए है।

एनएच-31 के 19 किमी में 1800 गड्ढे, रोज लगता है 40 किमी में जाम
मांझी घाट से बैरिया तक बुरी तरह क्षतिग्रस्त एनएच-31 पर मात्र 18 किमी में 1800 गड्ढे हैं। हर दिन यहां ट्रक जगह-जगह बड़े गड्ढ़ों में करवट ले ले रहे हैं जिसके चलते बैरिया से छपरा लगभग 40 किमी में हर दिन जाम लगा ही रहता है।

चार किलोमीटर में 8 ब्रेकर
हाजीपुर से गाजीपुर को जोड़ने वाले एनएच-19 स्थित इनई से रिविलगंज महज चार किलोमीटर के सड़क मार्ग पर आठ ब्रेकर है। जो नियमों को दरकिनार कर अपने सुविधा अनुसार बनाया गया है। जिससे छोटे बड़े वाहनों की परिचालन में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। ब्रेकरों के उंचाई लगभग 6-8 इंच है। वहीं एन एच -85 पर जलालपुर ब्रह्मपुर से टेकनिवास तक मानक के अनुरूप ब्रेकर का निर्माण किया गया है।

खबरें और भी हैं...