पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:सोनपुर के रेलवे अस्पताल में वेंटिलेटर सुविधा शुरू

छपराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 15 लोगों की जांच में पांच लोग संक्रमित मिले, रेलवे अस्पताल में 100 लोगों को दी गयी वैक्सीन

सोनपुर में गुरुवार को कुल 55 संक्रमित मरीज पाए गए। वहीं सोनपुर रेलवे अस्पताल में वेंटिलेटर सेवा गुरुवार से आरंभ हो गया। इसे लेकर रेल डॉक्टर रेल कर्मियों समेत आसपास के लोगों ने राहत की सांस ली है। वेंटिलेटर लग जाने से एक क्रिटिकल पोजीशन में आए मरीज को वेंटिलेटर उपलब्ध करा कर मरीज की जान बचा ली गई है। उक्त मरीज की स्थिति में काफी सुधार है। इस बात की जानकारी देते हुए रेलवे अस्पताल कोरोना के नोडल पदाधिकारी डॉ. विजय कुमार सिंह ने बताया कि एक सेवानिवृत्त रेलकर्मी पटना सेंट्रल अस्पताल से इलाज के बाद यहां भर्ती कराया गया था। वह क्रिटिकल पोजिशन में था लेकिन यहां वेंटिलेटर लगाए जाने के बाद उक्त कर्मी के हालत में काफी सुधार आई है। नोडल पदाधिकारी ने बताया कि गुरुवार को यहां 15 लोगों की रैपिड जांच में 5 लोग संक्रमित पाए गए। वहीं रेलवे अस्पताल परिसर में 100 लोगों को वैक्सीन दी गयी।
कोविड केयर में 195 की जांच में 50 संक्रमित
वहीं दूसरी ओर सोनपुर के अनुमंडलीय चिकित्सालय एएनएम प्रशिक्षण केंद्र स्थित कोविड केयर सेंटर वह कई अन्य केंद्रों पर कुल 195 लोगों का रैपिड जांच हुआ। इनमें 50 संक्रमित मरीज पाए गए। वहीं आरटी पीसीआर से 159 लोगों की जांच की गई। उपरोक्त बात की जानकारी देते हुए हेल्थ मैनेजर रवीश कुमार ने बताया कि यहां के विभिन्न केंद्रों पर 454 लोगों को वैक्सीन दी गई। मैनेजर ने बताया कि उक्त संक्रमित मरीज के निकट संपर्क में आए हुए लोगों की डाटा तैयार की जा रही है। उन सबों का जांच करायी जाएगी।

पुलिस के सामने कई चुनौतियां फिर भी जान जोखिम में डाल कर दे रही सेवा
मशरक : मशरक पुलिस की अहम भूमिका कोरोना वायरस संकट के समय में कानून और व्यवस्था बनाए रखने का उल्लेखनीय काम कर रही। देश में कोरोना वायरस से फैली महामारी ने हिला कर रख दिया है। पुलिस इंस्पेक्टर उदयप्रताप सिंह, थानाध्यक्ष राजेश कुमार दलबल के साथ मशरक मुख्यालय बाजार सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण कर लॉकडाउन का अनुपालन सुनिश्चित करा रहे है। वहीं सीओ ललित कुमार सिंह भी क्षेत्र में सघन दौरा ओर रहे है। लोगों को हरका रहे है। लॉकडाउन का पालन हर हाल में कराने को कमर कस लिए है। इस समय देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल की स्थिति है, ऐसी चुनौती देश के सामने शायद ही कभी आई होगी। जब इस तरह की चुनौती आती है तो उससे मुकाबला करने के लिए अलग-अलग स्तर पर नये-नये मापदंड भी तय करना पड़ते हैं।

खबरें और भी हैं...