बालू के लिए खूनी खेल:बालू घाट पर बर्चस्व की लड़ाई में बालू माफिया मुंशी को मारी गोली, एक की मौत

दाउदनगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोते-बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
रोते-बिलखते परिजन।

बालू घाट शुरू होते ही खुनी खेल शुरू हो चुका है। वर्चस्व की लड़ाई में शुक्रवार की आधी रात करीब 1:30 बजे अज्ञात बालू माफिया दो मुंशी को गोली मार दी और एक को लाठी-डंडे से पीटा। घटना में गोली लगने से एक मुंशी की मौत हो गई। जबकि दो लोग जख्मी हो गए। घटना दाउदनगर के सोन दियारा इलाके के नान्हू बिगहा बालू घाट की है। मृतक 30 वर्षीय अनिल कुमार गुप्ता कैमूर जिले के मोहनिया थाना क्षेत्र के बघनी गांव निवासी शिववंश गुप्ता का बेटा था।

जबकि घायलों में रोहतास जिले के बघेला थाना क्षेत्र के सिआवश गांव निवासी अनंत कुमार सिंह उर्फ मुन्ना सिंह व दरिहट निवासी रोहित कुमार शामिल है। पुलिस मौके से एक खोखा और एक मिस फायर गोली बरामद की है। इस मामले में दाउदनगर थाने में एफआईआर दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी गई है। मृतक के भाई अभिषेक कुमार ने बताया कि मेरा भाई उक्त घाट पर मुंशी का काम कर रहा था। वह चैंपियन कंपनी से जुड़ा हुआ था। वह बिना चालान के अवैध बालू को घाट से नहीं निकलने देता था। अपराधियों ने मेरे भाई को इसीलिए गोली मारी, क्योंकि उनके बालू चोरी में वह रूकावट न बने। उसने बताया कि उसे इंसाफ चाहिए। इंसाफ के लिए लड़ेगा।

दाउदनगर थाना के नान्हू बिगहा गांव की घटना, 10 से 12 की संख्या में आए थे अपराधि

गहरी नींद में सो रहे थे मुंशी, उसी वक्त अपराधियों ने हमला बोला: घायल मुंशी व अन्य कंपनी के कर्मियों ने बताया कि वे लोग खाना-पीना खाकर 11 बजे सो गए थे। सभी गहरी नींद में सो रहे थे। उसी वक्त 10-12 की संख्या में अपराधी वहां पहुंचे और मारपीट शुरू कर दिया। इस दौरान कुछ अपराधी नकाबपोश थे। वहीं कुछ का चेहरा खुला हुआ था, लेकिन सर्दी के दिन और रात के अंधेरे में पता नहीं चला। अपराधियों ने पहले मारपीट की और फिर गोली मार दी। कर्मियों ने बताया कि दो से तीन फायरिंग अपराधियों ने किया। जबकि कुछ कर्मियों का कहना है कि अपराधियों ने ज्यादा फायरिंग की। घटना को अंजाम देने से पहले बालू घाट पर रखे 80 हजार रुपए को भी बालू माफिया और अपराधी लूटकर भाग गए। घटना के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी गई। फिर घायलों को अस्पताल लाया गया। जहां उन्हें भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। सूचना के बाद दाउदनगर थानाध्यक्ष शशि कुमार राणा दल-बल के साथ आधी रात को ही मौके पर पहुंचे। शव को अपने कब्जे में लिया और तहकीकात शुरू कर दी। अपराधियों की शिनाख्त और गिरफ्तारी के लिए रात में ही कई ठिकानों पर छापेमारी की गई, लेकिन किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई।

बोले एसपी- एसआईटी जल्द करेगी अपराधियों की गिरफ्तारी

एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि घटना की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर लिया गया है। एसआईटी ने अपनी कार्रवाई शुरू कर दी है। जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी कर लिया जाएगा। किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा।

आंखों-देखी- जख्मी की जुबानी

वक्त करीब रात का 11:00 बज रहा था। वह खाना खाकर सो गया। कंपनी के सात से आठ साथ में सो रहे थे। लोकल के भी कुछ लोग घाट पर मौजूद थे। वह गहरी नींद में था। इसी बीच रात करीब 11 बजकर 58 मिनट में नींद टूटी। फिर पेशाब करने चला गया। इसके बाद वापस फिर रजाई में लिपटकर सो गया। ठंड काफी थी। उपर से सोन का इलाका। यहां कुछ ज्यादा सर्दी थी। करीब एक घंटे बाद नींद में ही उसकी अचानक रजाई किसी ने खींचा। लगा कि उसका दोस्त कोई मजाक कर रहा है।

नींच में ही चीढ़कर बोला ठंड में क्यों मजाक कर रहे हो। इतने में ही गोली फायर हुई और उसका छर्रा उसके चेहरे पर लगा। तब समझ में आया, अपराधियों ने हमला बोला है। इसके बाद हम अपने सिर को जमीन में सटा लिए और दुबक गए। लगा आज जिंदगी का आखिरी दिन है। दोबारा गोली उसके दाहिने बांह में आकर लगी। इसके बाद एक गोली और बगल में चली। फिर अपराधी बोलते हुए और मारते-पीटते हुए आगे जा रहे थे। मैं सिर्फ आवाज से महसूस कर रहा था। पांच मिनट बाद आवाज का शोर थमा। साथियों की आवाज हुई। अनिल को गोली लगी है। मैं जगा तो देखा कि मेरा साथी खून से लथपथ है और वह मर चुका है। जैसा कि चैंपियन कंपनी के घायल मुंशी अनंत उर्फ मुन्ना सिंह ने बताया।