पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

चुनावी सभा:अब मजबूरी में कोई नहीं जाएगा बिहार से बाहर, यहीं मिलेगा रोजगार : नीतीश

दाउदनगर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चुनावी सभा को संबोधित करते सीएम नीतीश कुमार व मंच पर मौजूद नेता।
  • देश के अपराध के आंकड़ाें में बिहार 23वें नंबर पर, समझिए हमने अपराध कैसे रोका
  • महादलितों और अल्पसंख्याकों के लिए शिक्षा की अलग से व्यवस्था की

अगर मौका मिला तो कोई मजबूरी में बिहार से बाहर रोजगार के लिए नहीं जाएगा। नई तकनीक शिक्षा पद्धति का जितना विकास हुआ। उसे और विकसित करेंगे। सूबे के हर जिले में आईटीआई और नई तकनीक शिक्षा पद्धति से जुड़े संस्थान खोलकर युवाओं को और इसमें रूचि रखने वाले लोगों को जोड़कर प्रशिक्षित किया जाएगा और यहीं रोजगार देने का काम करेंगे। उद्योग धंधों की क्षेत्र में विकास करेंगे। पांच लाख से दस लाख रुपए तक का लोन बिना ऋण के देने का काम करेंगे। महिलाओं को और बढ़ाएंगे। उक्त बातें सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दाउदनगर के टीचर ट्रेनिंग मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा। उन्होंने कहा कि हमने सभी वर्ग के महिलाओं को 35 फीसदी हर क्षेत्र में आरक्षण दिया। पहले महिलाएं घर तक सीमित थी। आज हर क्षेत्र में काम कर रही हैं। पहले पुलिस में महिलाएं नहीं होती थी। हमने 35 फीसदी उसमें भी आरक्षण दिया। आज देश में सबसे ज्यादा महिला पुलिस बिहार में हैं। हमने हर क्षेत्र में विकास किया है। हर कार्यकाल में विकास किया है। अागे भी मौका मिलेगा तो उससे ज्यादा विकास करेंगे।
हर घर में बिजली पहुंचायी, 83 फीसदी नल-जल का काम पूरा किया
सूबे के सीएम नीतीश कुमार ने जनसभा में कहा कि हमने पिछले चुनाव में आपसे वादा किया था। हम सात निश्चय योजना के तहत हर घर तक स्वच्छ नल का जल, पक्की नाली-गली और शौचालय का काम पूरा करेंगे। सात निश्चय हमारा संकल्प था। इस संकल्प के तहत हमने काम किया। 18 दिसंबर तक हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य था। हमने अक्टूबर तक ही इसे पूरा कर लिया। अब घर-घर में बिजली है। 83 प्रतिशत घरों में नल का जल पहुंचा दिया। पक्की नाली-गली का काम तेजी से हो रहा है। शौचालय का काम भी हमने पूरा किया।

पति-पत्नी के राज में दिन में लोग बाहर निकलने में डरते थे, अब रात में भी डर नहीं
15 साल पहले पति-पत्नी राज में लोग दिन में भी निकलने में डरते थे। आज की युवा पीढ़ी को आप बुजुर्ग बताईए, उस वक्त का क्या हाल था और आज कैसी हालत है। हमने कानून का राज स्थापित किया। अब रात में भी लोग आराम से बिना डर के सफर तय करते हैं। बिहार की पहचान पहले अपराध से होता था, लेकिन आज अपराध के मामले में देश में बिहार 23वें स्थान पर है। ये हम नहीं बोल रहे। भारत सरकार हर साल इसका सर्वे कराती है। 2018 के सर्वे में यह आंकड़ा बताया गया है। समझिए कितना अंतर आ गया। आगे मौका मिला तो और बेहतर काम करेंगे। ताकि उद्योग धंधे का विकास हो।

महिलाओं को 35 % आरक्षण दिया, हम किसी को प्रवासी नहीं मानते, सभी हमारे परिवार जैसा

सीएम ने विपक्षी नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि कोरोनाकाल में नेता क्या-क्या नहीं बोलते थे। प्रवासी मजदूर न जाने और क्या-क्या शब्द, लेकिन हम किसी को प्रवासी नहीं मानते। सभी बिहार के हैं। हमारे परिवार हैं। हमने अप्रैल महीना में 21 लाख लोगों को मदद पहुंचाया। एक-एक हजार रुपए के आर्थिक मदद की। 22 लाख लोगों को रेल के माध्यम से राज्यों में लाया। हर व्यक्ति पर 5300 रुपए खर्च की। उनका पूरा ख्याल रखा। सीएम हाउस से मैने वीडियो कॉन्फ्रेस के जरीए हर व्यक्ति से बात करने की कोशिश की। उनके दुख और दर्द को समझा और उसे हल करने का प्रयास किया। आज बिहार पूरे दुनिया में कोरोना का हराने वाला पहला राज्य है।

नीतीश कुमार ने दिया विकास को नया आयाम, बिहार पूरी तरह से बदल चुका है : अशोक चौधरी
सूबे के भवन निर्माण मंत्री सह जदयू प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि नीतीश कुमार विकास पुरूष हैं। 15 साल बनाम 15 साल के शासन में जो फर्क आया है। बिहार पूरी तरह से बदल चुका है। उन्होंने जदयू प्रत्याशी सुनील कुमार के पक्ष में वोट मांगा। चुनावी सभा को सांसद सुशील कुमार सिंह, महाबली सिंह, पूर्व विधान पार्षद प्रो. रणवीर नंदन, जदयू प्रत्याशी सुनील कुमार ने संबोधित किया। इस मौके पर जदयू सेवा दल के जिलाध्यक्ष शैलेश यादव, जिला उपाध्यक्ष राम कृष्ण कुमार उर्फ नन्हकू पांडेय, उपाध्यक्ष विश्वनाथ सिंह मौजूद रहे। सभा की अध्यक्षता भाजपा जिलाध्यक्ष मुकेश कुमार शर्मा व संचालन जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह ने किया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप अपने अंदर भरपूर विश्वास व ऊर्जा महसूस करेंगे। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। तथा अपने सभी कार्यों को समय पर पूरा करने की भी कोशिश करेंगे। किसी नजदीकी रिश्तेदार के घर जाने की भी योजना बनेगी। तथ...

और पढ़ें