सूर्यपुरा और दावथ में बहनों ने अन्नकूट किया:अपने भाइयों की लंबी उम्र की कामना के लिए बहनों ने अपनी जीभ पर चुभाया कांटा, व्रत कथा का भी किया श्रवण

दावथ24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सूर्यपुरा व दावथ प्रखंड में अहले सुबह दरिद्र खदेरने के साथ ही महिलाओं ने शनिवार को गोबर से गोधन की आकृति बनाकर मूसल से जमकर कूटा, बहने भाई के समृद्धि के लिए दो पहर तक उपवास रख किया। साथ ही भाई के माथे पर तिलक लगा बजरी और मिठाई खिलाया। वही महिलाओ के लिए पीडिया की शुरुआत हुई। भाई-बहन के अटूट प्रेम और स्नेह के प्रतीक का पर्व भाई दूज को बहने काफी हर्षोल्लास के साथ मनाया। आचार्य शम्भू जी पांडेय ने बताया कि पौराणिक मान्यता के अनुसार इसी दिन भगवान सूर्यदेव के पुत्र और यमपुरी के स्वामी यमराज अपनी बहन यमुना के द्धारा बार-बार निवेदन करने पर उसके घर आये थे और इस अवसर पर उनकी बहन यमुना भाव-विभोर होकर भव्य स्वागत किया था।

इस पर खुश होकर यमराज ने उन्हें वरदान दिया कि जो इस दिन यमुना मे स्नान करके भाई-बहन के इस पवित्र पर्व को मनाएगा, वह मेरे भय से मुक्त हो जाएगा। उसी दिन से यह प्रत्येक वर्ष भाई दूज के रुप मे मनाया जाने लगा। वहीं दूसरी तरफ दावथ प्रखंड में भी भाई-बहन के स्नेह का त्योहार भाई दूज शनिवार को हर्षोल्लास के साथ मनाया गया । भाई को तिलक लगाकर बहनों ने लंबी उम्र की कामना के साथ पूजा अर्चना की : भाई को तिलक लगाकर बहनों ने लंबी उम्र की कामना के साथ पूजा अर्चना की। इस त्योहार को लेकर प्रखंड क्षेत्रों में काफी उत्साह देखा गया। भाई दूज का त्योहार कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। बहन और भाई के पवित्र रिश्ते का महापर्व भैयादूज परंपरा व आस्था के साथ मनाया गया। उत्साहित बहनें अपने भाई का इंतजार करती रहीं। भाई उनके पास पहुंचे तो साथ मिलकर पर्व को मनाया । भाई को तिलक लगाकर लंबी उम्र की प्रार्थना की।

सुबह से ही बहनों का भाइयों के घर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। भाई के माथे पर रोली अक्षत से तिलक लगाकर आरती के बाद मुंह में मिठाई खिलाईं। साथ ही भाइयों को नारियल भेंट करते हुए उनके यश वृद्धि की कामना की गई। परंपरागत रूप से विधि विधान से पूजा अर्चना किया गया। इस दौरान भाइयों ने अपने बहनों को उपहार दिया। यह त्योहार भाई व बहन के प्रेम का प्रतिक है। बहने भाइयों के स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की मंगल कामना करके तिलक लगाती हैं।

खबरें और भी हैं...