बड़ी समस्या / पुराने बने घरों से ऊपर हुई नालियों और रोड की ऊंचाई, नहीं होती जलनिकासी

Drain and road height above old built houses, no drainage
X
Drain and road height above old built houses, no drainage

  • शहर के कई इलाकों में सफाई व्यवस्था ध्वस्त, लोगों का घरों में भी रहना दूभर
  • बरसात में जलजमाव: वार्डों का सीमा क्षेत्र होने के कारण पार्षदों का ध्यान नहीं

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

डेहरी. शहर के कई इलाकों में सफाई व्यवस्था के ध्वस्त हो जाने के बाद लोगों की जिंदगी नारकीय बन गयी है। सबसे ज्यादा उन लोगों की मुश्किलें बढ़ीं हैं जो शहरी वार्डों के बंटवारे के इलाके में रहते हैं। समस्या से त्रस्त अधिवक्ता खुर्शिद आलम ने बताया कि नगर परिषद के पार्षदों की उपेक्षा का दंश है कि थोड़ी बरसात में ही इलाके डूब जाते हैं और घरों में नालियों का गंदा पानी प्रवेश कर जाता है। बरसाती पानी से बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को आने-जाने में हो रही परेशानी को यूं ही बयां नहीं किया जा सकता। 
स्थानीय निवासियों ने बताया कि वार्डों के बंटवारे वाले ये इलाके हैं। शहर का वार्ड संख्या 24 एवं 25 इस इलाके से विभक्त होती है। दर्जनों परिवार रहते तो वार्ड संख्या 25 में हैं लेकिन दरवाजे वार्ड 24 की ओर खुलते हैं। सीमा क्षेत्र होने के कारण पार्षदों का ध्यान इधर नहीं होता। सफाई के अभाव में नालियां जाम पड़ी हैं। जरा सी बरसात होती है तो सड़क पर पानी लग जाता है और फिर घरों में घुस जाता है। नाली की व्यवस्था के लिए लोगों ने कई मर्तबा आवेदन दिया लेकिन कोई नहीं सुनता।

बरसात में रहना मुश्किल 
यहां के निवासी बताते हैं कि घरों का निर्माण काफी दिनों से है। बाद में गलियों के पक्कीकरण के दौरान मानकों का पालन नहीं करने से घरों से गलियों की उंचाई ऊपर होती गई। इसके साथ ही नाली निर्माण भी किया गया तो वह भी ठेकेदारों ने मानक का लाभ घर वालों को नहीं दिया। घर नीचे होते गए और अब यहां बरसात के मौसम में रहना मुश्किल हो गया है। अधिकारी को ज्ञापन देकर गुहार लगाई गयी लेकिन इसकी सही सुनवाई नहीं हुई। ऐसी स्थिति केवल यहीं नहीं है बल्कि कई जगहों पर ऐसे हालात हैं।

विरोध में घरों पर टांगेंगे बिक्री की तख्ती
नागरिकों ने कहा कि नगर परिषद और अधिकारियों ने यहां के निवासियों की समस्या का समाधान नहीं किया तो विरोध में मकानों के सामूहिक बिक्री की तख्ती नगर परिषद के गेट पर लटका कर विरोध दर्ज कराया जायेगा। नगर परिषद के टैक्स वसूल करने और सुविधा नहीं देने के मामले को वरीय अधिकारी और जरुरत पड़ी तो न्यायालय में याचिका दायर कर उठाएंगे। नाली के निर्माण की मांग भी की है।
नाला की सफाई नहीं होने से शहर के कई मुहल्लों में जलजमाव

लगातार कई दिनों से रूक-रूक कर हो रही बारिश से शहर के कई इलाकों में जलजमाव हो गया है। इस वर्ष रिकार्ड बारिश जून महीने में हुई है। शहर के गौरक्षणी प्रेमचंद पथ, गजराढ़ मुहल्ला, रौजा रोड़,फजलगंज, न्यू एरिया, शाहजलाल पीर, फजलगंज आदि मुहल्लों में सड़कों पर जलजमाव हो गया है। जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जलजमाव से बीमारी फैलने की आशंका बढ़ गई है। जबकि कोरोना संक्रमण के बीच सफाई जरुरी है। लेकिन जलजमाव से सफाई नहीं हो पा रही है।

ज्ञात हो कि लॉकडाउन के कारण शहर का ड्रेनेज निर्माण कार्य प्रभावित हो गया था जिस कारण पानी नहीं निकल रहा है। वहीं विभिन्न वार्डों में नाला की समय से सफाई नहीं होने से पानी का निकासी बाधित है। जलजमाव के कारण जल जनित बीमारियों के फैलने का डर बना हुआ है। जिला महामारी रोग पदाधिकारी डाॅ. प्रियमोहन सहाय की माने तो बरसात में सफाई जरुरी है। पानी के जमाव से मच्छर बढ़ते हैं। अधिक बारिश होने से मच्छरों का प्रकोप तेजी से बढ़ गया है।

रिपोर्ट तलब कर होगा निदान: कार्यपालक पदाधिकारी
गंदे पानी के जमाव को निकलवाने की शीघ्र व्यवस्था होगी। कुछ घंटों बाद जमाव कम होने लगता है। लेकिन यहां की समस्या को देखते हुए संबंधित अधिकारी को भेज कर परमानेंट निवारण की व्यवस्था के लिए रिपोर्ट मांगी जाएगी तथा निदान होगा।  -सुशील कुमार सिंह, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना