हादसे के बाद बवाल:बैंक से गांव जा रहे बुजुर्ग को हाइड्रा ने रौंदा, मौत के बाद तीन घंटे हाईवे जाम

डेहरी सदरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • एनएच टू सी पर आक्रोशित लोगों ने आगजनी कर जताया विरोध

अधिकारियों के पहुंचने पर मिला मुआवजा का आश्वासन तो हटाया जाम
डेहरी यदुनाथपुर हाइवे एनएचटूसी पर बुधवार को तारा बंगला के समीप एक वृद्ध को पीछे से आ रहे हाइड्रा ने रौद डाला। जिसके बाद आक्रोशित लोगों ने जमकर बवाल किया। तीन घंटे तक हाइवे को जाम कर आवागमन ठप कर दिया। इस दौरान सैकड़ों गाड़ियां जहां के तहां खड़ी हो गई। घटना दोपहर बाद की है जब ओझवलिया के 60 वर्षीय वृद्ध इद्रदेव राम डेहरी स्टेट बैंक से पैसे निकालकर पैदल अपने गांव लौट रहे थे। इसी दौरान पीछे से आ रहे हाइड्रा के झटक से पहले सड़क पर गिरे।

जब तक संभल पाते, जब तक हाइड्रा के दोनों पहिये उनके उपर चढ़ गए। वृद्ध की मौके पर मौत हो गई। उसके बाद डेहरी डीएसपी संजय कुमार और स्थानीय पुलिस पहुंची और शव काे उठाने का प्रयास किया तो लोगों ने सड़क जाम कर दिया। मृतक के परिजन मौके पर पहुंचे तो स्थिति और भी संवेदनशील हो गई। परिजनों को समझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

डेहरी यदुनाथपुर हाईवे एनएच-2 सी पर तारा बंगला के समीप हुई दुर्घटना

सामने से आ रहे बाइक वाले के चकमा में आ गए हाइड्रा के नीचे
बताया जाता है कि इंद्रदेव राम बाई तरफ सड़क पर पैदल चल रहे थे। तभी सामने से आ रहे एक बाइक सवार ने अपनी गाड़ी लहराई। जिससे बचने के लिए वे हल्का दाहिने गए। तभी पीछे से आ रहा हाइड्रा का अगला हिस्सा उनके कंधे से टक्करा गया। उसके बाद वे संभल नहीं पाए। सड़क पर गिरे तो हाइड्रा के पहिये उन्हें रौंदते हुए निकल गए। जिसके कारण इंद्रदेव राम की मौके पर मौत हो गई। इंद्रदेव राम के सीने और सर पर गंभीर चोटे आई थी। जिन्हें अस्पताल ले जाने का मौका भी नहीं मिला।

आक्रोश इतना था कि आगजनी के साथ लोगों ने की नारेबाजी
घटना के बाद लोगों के बीच एनएचटूसी पर भारी भरकम गाड़ियों की गति को लेकर आक्रोश इतना था कि लोग सड़क पर टायर जलाने के बाद स्थानीय प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। आरोप थे कि बालू लदे ट्रक व ट्रैक्टरों के नीचे भी आए दिन लोग दबकर दुर्घटना ग्रस्त होते हैं। फिर भी प्रशासन कोई कदम नहीं उठा पाता। जिसके कारण इन वाहनों के चालकों के हौसले और भी बढ़ रहे हैं। डीएसपी ने मृतक के परिजनों को मुआवजा दिलाने के लिए आश्वासन दिया। साथ ही अंतिम क्रिया के लिए परिवारिक लाभ योजना से राशि उपलब्ध कराई।

लोगों ने किया हाइड्रा का पीछा, चालक गाड़ी ले भागने में सफल
स्थानीय लोगों ने दुर्घटना के बाद हाइड्रा का पीछा भी किया, परंतु दुर्घटना होते ही चालक की रफ्तार इतनी तेज कर दी की जब तक लोग उस तक पहुंच पाते। वह तिलौथू की तरफ भाग निकला। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि इस दौरान हाइड्रा के नीचे आने से दो बाइक सवार और एक साईकिल सवार बाल-बाल बच गए। चालक जिस गति से हाइड्रा लेकर भाग रहा था। उसे देख स्थानीय लोगों ने अंदाजा लगाया कि कहीं ना कहीं कोई और दुर्घटना को अंजाम देगा।

खबरें और भी हैं...