पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीकाकरण:दरौंदा में 370 लोगों ने ली कोविड -19 की वैक्सीन

दरौंदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिना काम के घर से नहीं निकलने की अपील, निकलें भी तो मास्क और सोशल डिस्टेंस का करें पालन

पिछले माह से जारी 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड का टीका लगाने का कार्य शुरु हैं।इसको लेकर प्रखंंड मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अलावा 11 केन्द्र बनाया गया है। जबकि शुक्रवार को 370 लोगो ने टीका लगवाया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी निर्देश के अनुसार एक अप्रैल से सभी टीकाकरण स्थल पर इसकी शुरुआत की गई। टीका अभियान को सुचारू ढंग से संचालन को लेकर दरौंदा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अलावा 11 केन्द्र बनाया गया है। सुबह से ही चयनित टीका केंद्र पर 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों ने टीका लगाने को लेकर कतारबद्व होकर आधारकार्ड के साथ रजिस्ट्रेशन करा कर कोरोना टीका ले रहे थे। टीकाकरण लेने के बाद भी पूरी तरह स्वास्थ्य विभाग की टीम अपनी निगरानी में लोगों को रख कर कुछ देर बाद ही घर जाने की अनुमति दे रही थी। इस दौरान लोग सावधानी बरतने हुए मास्क के साथ संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी गाइडलाइन का पालन कर रहे थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रांगण में लगे शिविर में काफी भीड़ रही। हेल्थ मैनेजर अंजनी कुमार ने बताया कि समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लगे वैक्सीन शिविर में 45 वर्ष से अधिक के कुल 370 लोगों ने टीका लिया। स्वास्थ्य विभाग की मानें तो ग्रामीण क्षेत्र लोगों ने जागरुकता दिखाते हुए टीका लिया।

पचरुखी में 100 लोगों काे लगा टीका

पचरुखी | पचरुखी प्रखण्ड क्षेत्र में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर टीकाकरण केंद्र बनाकर शुक्रवार को 100 लोगों को टिका लगाया गया।उक्त जानकारी पचरुखी चिकित्सा केंद्र प्रभारी डॉक्टर सुरेंद्र प्रसाद ने दी।उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों की सुविधा व स्वास्थ्य केंद्र पर अत्यधिक भीड़ से बचने के लिए प्रखण्डक्षेत्र के तीन जगहों का चयन कर कोरोना का टिका लगवाया जा रहा है,परन्तु शुक्रवार को सिर्फ पचरुखी स्वाथ्य केंद्र पर ही टीकाकरण का कार्य सम्पन्न हुआ। कुल 100 लोगो को टिका लगाया गया।उन्होंने सभी आमजनों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग अपनी बारी आने पर टिका अवश्य लगवाएं।टिका का कोई साइड इफैक्ट नही है यह हमारे इम्युनिटी को मजबूती देता है और कोरोना के वायरस के प्रभाव को कम करता है। उन्होंने सभी लोगो से यह आग्रह भी किया कि अनावश्यक घरों से बाहर नही निकले और जरुरत पड़ने पर यदि निकले भी तो मास्क और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करें। कोरोना से लड़ने और जितने का यही एकमात्र उपाय है। खुद को संदिग्ध परिस्थितियों में पाते हैं तो कोरोना की जांच कराएं। विलंब करने और छिपाने पर ही यह जानलेवा साबित हो रहा है।

खबरें और भी हैं...