खानापूर्ति:सफाई के नाम पर खानापूर्ति शिकायत पर प्रशासन मौन

डुमरांव3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जितना जोर स्वच्छता मिशन पर दिया शायद ही किसी ने दिया हो। डुमरांव नगर परिषद में सफाई के नाम करीब 24 लाख का भुगतान प्रत्येक माह किया जाता है। जिसमे करीब 75 से 80 के बीच मानव बल सहित ई रिक्शा का प्रयोग किया जाता है।

इतना तामझाम के बीच भी नगर परिषद डुमरांव से जुड़े विस्तृत में सफाई के नाम पर केवल खाना पूर्ति किया जा रहा है। फिर चाहे ग्रामीण भले ही बीमारियों का शिकार क्यों न होने लगे उन्हें इससे कोई मतलब नही। मामला डुमरांव नप के विस्तृत क्षेत्र से जुड़े दो पंचायत नया भोजपुर एवं पुराना भोजपुर का है।

इस दोनों पंचायत के लोगों का कहना है कि डुमरांव नगर परिषद में थोड़ा बहुत सफाई हो भी जाता है लेकिन नया भोजपुर एवं पुराना भोजपुर पंचायत में सफाई के नाम पर केवल खानापूर्ति किया जा रहा है। रोड़ों पर नाली का सड़ा एवं गंदा पानी बह रहा है। लोगों परेशान हैं।

शिकायत के बाद भी नप के अधिकारी इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। गंदगी भी ऐसी की लोग दस मिनट वहां खड़े न हो पाएं। ग्रामीणों ने तो यहां तक बताया कि सफाई के अभाव में मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है जिससे तरह -तरह की बीमारियों का खतरा बना हुआ है। ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए यह भी बताया की पंचायत के कच्चे को रोड के किनारे फेंका जा रहा है।

खबरें और भी हैं...