पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Dumranv
  • All The School Principals Getting Upset In The Data Entry, The Entry Work On The Portal Is Slow, The Records Of Government And Private Schools Will Be Online

नई व्यवस्था:डाटा इंट्री में परेशान हो रहे सभी विद्यालय प्रधानाध्यापक, पोर्टल पर इंट्री का कार्य धीमा, सरकारी व निजी स्कूलों के रिकॉर्ड होंगे ऑनलाइन

डुमरांव20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी विद्यालय भवन। - Dainik Bhaskar
सरकारी विद्यालय भवन।

सभी सरकारी एवं निजी विद्यालयों से संबंधित डाटा का ऑनलाइन रिकॉर्ड रखा जाएगा। इसको लेकर कवायद भी शुरू हो गई है। विद्यालयों के डाटा एंट्री के लिए सरकार द्वारा पोर्टल भी उपलब्ध कराया गया है। शिक्षा विभाग के समग्र शिक्षा अभियान द्वारा विद्यालयों के डाटा अपडेशन कार्य की मॉनिटरिंग भी की जा रही है।

विद्यालयों को डायस कोड, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी के आधार पर ऑनलाइन एंट्री के लिए यूजर आईडी और पासवर्ड दिया गया है। सरकारी विद्यालयों के अलावा पंजीकृत निजी विद्यालयों को यू डायस पोर्टल पर संबंधित सभी जानकारी अपडेट करनी होगी।

विद्यालयों को अपने यहां मौजूद सभी संसाधनों की जानकारी उपलब्ध करानी होती है। बता दें कि इससे पहले मैनुअली फॉर्मेट पर डाटा लिया जाता था, इस बार ऑनलाइन डाटा एंट्री के बाद फॉर्मेट को मैनुअली जमा करना होगा।

प्रखण्ड शिक्षा कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार ऑनलाइन एंट्री में विद्यालय प्रधान को विद्यालय में उपलब्ध भवन, इंफ्रास्ट्रक्चर, शिक्षकों की संख्या, एजुकेशनल गुणवत्ता, विद्यालयों के लाभुक आधारित योजना का बच्चों को मिल रहे लाभ, आधार अपडेट, विद्यार्थियों की संख्या, वर्ग कक्षा की संख्या, कोटिवार विद्यार्थियों की संख्या सहित अन्य सूचनाओं की एंट्री करना अनिवार्य है।

एंट्री किए जाने वाले डेटा के आधार पर ही राज्य सरकार शिक्षक-छात्र अनुपात में शिक्षकों की उपलब्धता, आवश्यक शिक्षकों की संख्या एवं गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का निर्धारण करती है।

पोर्टल पर रिकॉर्ड की इंट्री का कार्य धीमा
यू डायस प्लस पोर्टल पर डेटा इंट्री करने, तकनीकी सहायता उपलब्ध कराने एवं यूजर आईडी एवं पासवर्ड उपलब्ध कराने को लेकर समग्र शिक्षा अभियान कार्यालय द्वारा व्हाट्सएप्प ग्रुप बनाया गया है। व्हाट्सएप्प ग्रुप में प्रखंड के सभी शिक्षकों को जोड़ा गया है ताकि डेटा इंट्री के दौरान होने वाले समस्या का समाधान किया जाए।

लेकिन लॉकडाउन के दौरान प्रखंड से लेकर जिला तक के कार्यालय बंद रहने एवं तकनीकी टीम के सदस्य द्वारा हर समय उपलब्ध नहीं रहने के कारण यू डायस प्लस पोर्टल पर डेटा इंट्री कार्य धीमा है। कई विद्यालयों के प्रधान अब तक डेटा इंट्री कार्य में रूचि नही ले रहे है।

ऐसे प्रधान प्रखंड स्तरीय डेटा ऑपरेटर पर निर्भर है। वहीं डेटा इंट्री के दौरान होने वाली समस्या का समाधान भी त्वरित नहीं किया जाता है और संपर्क करने पर उसे टालने के मकसद से किसी और से संपर्क करने की सलाह दी जाती है। यू डायस प्लस पोर्टल पर डेटा इंट्री कराने के चक्कर में कई विद्यालय प्रधान परेशान हो रहे है। उन्हें समय से डेटा इंट्री नहीं होने का डर भी सता रहा है।

खबरें और भी हैं...