पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उदासीनता:भैसों का तबेला बना राज हाई स्कूल का खेल मैदान

डुमरांव14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मैदान में पूरे दिन विचरण कर रहे हैं गाय और भैंस, पशु चारण से मैदान के अस्तित्व पर लग रहा है ग्रहण

एक समय था जब राज हाई स्कूल के खेल मैदान में स्टेडियम निर्माण की चर्चा चल रही थी। राज्य सरकार द्वारा इसकी स्वीकृति भी दे दी गई थी। तब स्टेडियम के मानक से कुछ जमीन कम होने के कारण स्टेडियम बनने का सपना पूरा नहीं हो सका। लेकिन अनुमंडल का यह सबसे बड़ा खेल मैदान खेल प्रेमियों के बीच आकर्षण का केंद्र बना रहा। पिछले कुछ महीनों में व्यवस्था की उदासीनता से ऐतिहासिक खेल मैदान तेजी से अपना अस्तित्व होते जा रहा है। लंबे समय से जलजमाव की समस्या से मैदान के सौंदर्य पर बट्टा लग रहा था लेकिन अब पशु चारण से इसके अस्तित्व पर ही संकट मंडराने लगा है।

पिछले एक महीने से पूरे दिन दर्जनों की संख्या में गाय और भैंस मैदान में विचरण करते हैं। ऐतिहासिक मैदान में गाय भैंस जैसे पालतू पशुओं को चराने से रोकने के लिए न तो स्कूल प्रबंधन आगे आ रहा है और ना ही स्थानीय प्रशासन। पूरे दिन पशुओं के विचरण करने से मैदान में कई जगह गड्ढे उभर आए हैं। जिससे खेल प्रेमियों की नाराजगी बढ़ते जा रही है। खेल प्रेमी सह जदयू नेता गोपाल प्रसाद गुप्ता ने कहा के सेवा यात्रा के तहत 24 जुलाई को डुमरांव आ रहे जदयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह विधान पार्षद उपेंद्र कुशवाहा के समक्ष इस समस्या को रखा जाएगा।

हर दिन खेल व व्यायाम का अभ्यास करते हैं सैकड़ों युवा
खेल मैदान में शहर तथा आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के सैकड़ों युवा क्रिकेट, फुटबाल, वालीबाल, कबड्डी जैसे खेलों के साथ ही दौड़ तथा अन्य व्यायाम का अभ्यास करते हैं। सुबह और शाम यह मैदान खेल प्रेमियों खिलाड़ियों तथा स्वास्थ्य लाभ करने वालों से भरा रहता है। मैदान के प्रति प्रशासनिक उदासीनता तथा पशु चारण से उन खेल प्रेमियों में नाराजगी है।

महेंद्र सिंह धोनी तक आजमा चुके हैं कौशल
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी तभी इस खेल मैदान में चौके छक्के लगा चुके हैं। इसके अलावा इस मैदान से निकलने वाले दर्जनों खिलाड़ी राज्य और राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता में अपना कौशल बिखेर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...