लापरवाही:फूलचंद कानू पथ में कचरे से भर गया है सेंट्रल नाला, सफाई अभियान की खुल रही पोल

डुमरांव8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सफाई के नाम पर हर महीने 22 लाख खर्च कर रही है डुमरांव नप, सड़ांध से परेशान हो रहे है लोग

लाखों खर्च के बाद शहर की सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं हो पा रही है। खासकर सेंट्रल नाला की सफाई नगर परिषद के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रही है। शहर के वार्ड 6 स्थित लाला टोली रोड से अंतिम छोर फूलचंद कानू पथ तक करीब एक से डेढ़ किलोमीटर की लंबाई में सेंट्रल नाला कूड़ा कचरा से पटा हुआ है। फूलचंद कानू पथ में सेंट्रल नाला पर बनी पुलिया में तो कचरा इस कदर भर गया है कि वहा से पानी का बहाव ही अवरुद्ध हो गया है। जिससे आसपास के घरों में रहने वालों को सड़ांध से रहना मुश्किल हो गया है। लोगों का कहना है कि सेंट्रल नाला की सफाई के नाम पर नगर परिषद सिर्फ खानापूर्ति करती है, जिसका खामियाजा लोगो को भुगतना पड़ रहा है। सफाई के प्रति उदासीनता से नगर के एक बड़े भूभाग पर लंबे समय से सेंट्रल नाला का गंदा पानी फैला हुआ है।

पूर्व चेयरमैन प्रतिनिधि मोहन मिश्र की माने तो सेंट्रल नाला की सफाई के नाम पर नगर परिषद हर साल एक बड़ी राशि खर्च करती है यही नहीं शहर की सफाई व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए भी प्रत्येक महीने 22 लाख रुपए खर्च किए जा रहे हैं। बावजूद मैं तो सेंट्रल नाला साफ है और ना ही शहर के वार्ड। उन्होंने कहा कि सफाई के प्रति बरती जा रही लापरवाही से लोगों में गहरा आक्रोश है। डुमरांव में नालियों व सीवरेज के पानी को शहर से दूर निकालने में सेंट्रल नाला की मुख्य भूमिका है। लेकिन यह सेंट्रल नाला भी सफाई के नाम पर खानापूर्ति का भेंट चढ़ गया है।

खबरें और भी हैं...