प्रत्याशियों के पहचान के लिए रंग निर्धारित:चुनाव में मुखिया के लिए हरा बीडीसी के लिए नीला रंग का बनेगा वोटिंग कंपार्टमेंट

डुमरांव2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंचायत चुनाव के वोटर है तो विभिन्न तरह के रंग भी आपको प्रत्याशियों के पहचान में मददगार होगा। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी रंग में मुखिया प्रत्याशी के लिए हरा रंग निर्धारित किया गया है। वही नीला रंग पंचायत समिति सदस्य का पहचान होगा। जिला परिषद प्रत्याशी के लिए लाल रंग का घेरा में रहेंगे।

तथा वार्ड सदस्य पद के प्रत्याशी के लिए काला रंग निर्धारित किया गया है। राज्य निर्वाचन आयोग से मिले निर्देश के अनुसार चुनाव के समय मतदान केंद्र के अंदर बनाए गए अलग-अलग रंग के कंपार्टमेंट में ईवीएम मशीन को रखा जाएगा। यह रंग ही मतदाताओं को बता देगा कि कौन सा ईवीएम मशीन किस प्रत्याशी के लिए है।

जारी निर्देश के अनुसार मुखिया पद के प्रत्याशी ईवीएम मशीन हरे रंग से बनाए गए कंपार्टमेंट में रखे जाएंगे। जबकि नीला रंग वाला कंपार्टमेंट बीडीसी प्रत्याशी के लिए निर्धारित किया गया है। जिला परिषद प्रत्याशी के ईवीएम मशीन को लाल घेरा में बनाए गए कंपार्टमेंट में रखा जाएगा।

काला रंग के कंपार्टमेंट में वार्ड सदस्य पद के प्रत्याशी ईवीएम रहेगा। ऐसा इसलिए किया गया है कि मतदाताओं को चुनाव के बाद किसी भी तरह का भ्रम और संशय की स्थिति न रहे। मतदान केंद्र के अंदर पहुंचने के बाद उन्हें यह पूछने की नौबत न आएगी कौन सा ईवीएम किस प्रत्याशी के लिए रखा गया है।

मतदाता रंगों के आधार पर आसानी से अपने प्रत्याशी तक पहुंच कर अपना मतदान कर सकेंगे। राज्य निर्वाचन आयोग का यह प्रयास अनपढ़ और अशिक्षित मतदाताओं के काम आएगा। चुनाव प्रचार के दौरान प्रत्याशी भी अपने मतदाताओं को रंगों के आधार पर ईवीएम मशीन तक बड़ी आसानी से पहुंचाने में कामयाब रहेंगे।

खबरें और भी हैं...