दुस्साहस:शराब जब्त करने गई पुलिस ग्रामीणों से उलझी,पथराव के बाद एनएच जाम

डुमरांव21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एनएच 84 पर सड़क जाम करते ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
एनएच 84 पर सड़क जाम करते ग्रामीण।

शनिवार को शराब तस्करों के खिलाफ पुराना भोजपुर में छापेमारी करने गई नया भोजपुर ओपी पुलिस ग्रामीणों से उलझ गई। जिसके बाद जमकर बवाल हुआ। ग्रामीणों ने आक्रोश में पुलिस पर रोड़ेबाजी की।

हालांकि इसमें किसी को चोटें नहीं आयी हैं। पुलिस ने तीन ग्रामीणों को हिरासत में ले लिया तो ग्रामीणों ने एनएच जाम कर दिया। एनएच 84 पर जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस को भी विरोध और आक्रोश झेलना पड़ा। बाद में जनप्रतिनिधियों की मदद से जाम खाली कराया गया। करीब एक घंटे तक सड़क जाम कर ग्रामीणों ने पुलिस के विरोध में नारेबाजी की।

ग्रामीणों का कहना है कि छापेमारी के दौरान पुलिस ने एक ऐसे भद्रजन के घर में दस्तक दे दिया, जिसका शराब तस्करी से कोई लेना देना नहीं है। इस तरह शरीफ लोगों को परेशान करना पुलिस की नीयत हो गयी है। वहीं, पीड़ित परिजनों ने भी पुलिस की कार्रवाई पर नाराजगी जाहिर की। परिवार के सदस्यों के मुताबिक घर के अंदर पुलिस जबरन घुस गई।

पुलिस ने आते ही उनके साथ अभद्र व्यवहार तथा मारपीट भी किया। आरोप है कि घर की एक महिला तथा लड़कियों के साथ भी मारपीट की गई है। जबकि पुलिस का कहना है कि एक शराब तस्कर का पीछा करते हुए पुलिस उस घर तक गई थी। इस दौरान परिजन तलाशी का विरोध करने लगे।

तीन को हिरासत में लिया गया
उक्त परिवार तथा आसपास के लोग उग्र हो पुलिस पर पथराव भी किए। जबकि पुलिस तीन लोगों को हिरासत में लेकर थाना लौट गई। पुलिस की इस कार्रवाई के विरोध में उक्त परिवार के नेतृत्व में ग्रामीणों ने पुराना भोजपुर चौक को जाम कर दिया। इसकी सूचना मिलते ही तत्काल पंचायत प्रतिनिधियों को हस्तक्षेप करने का निर्देश प्रशासनिक महकमे द्वारा दिया गया। मुखिया प्रतिनिधि शंभू चौधरी तथा सरपंच भरत चौधरी के पहल के बाद ग्रामीणों ने जाम हटाया। पुराना भोजपुर चौक पर देर तक अफरा-तफरी मची रही तथा दूर तक वाहनों का जाम लगा रहा।

  • पुलिस बोली : तस्कर का पीछा करते घर में घुसे, गलतफहमी से लोग आक्रोशित
  • ग्रामीण बोले : पुलिस भद्रजन के घर में घुसी, महिलाओं से बदसलूकी की

शराब तस्करी में शामिल नहीं है पीड़ित परिवार
पुलिस पुराना भोजपुर तकिया मोहल्ला के राजू चौधरी के घर में छापेमारी करने गई थी। जबकि इस परिवार का शराब तस्करी से कोई लेना देना नहीं है। खुद पुलिस भी इस बात को मान रही है। छापेमारी के दौरान ही पुलिस ने राजू चौधरी, उसकी पत्नी शांति देवी तथा घर की लड़कियों के साथ भी मारपीट की है ऐसा पीड़ित परिवार का आरोप है।

तस्कर का पीछा करते पहुंची थी पुलिस
थानाध्यक्ष राजीव रंजन राय ने बताया कि पुलिस एक शराब तस्कर का पीछा कर रही थी। उस तस्कर के पीछे पीछे हैं पुलिस उस घर में पहुंच गई। पुलिस को देखते हैं परिजन आग बबूला हो गए तथा पुलिस से भिड़ गए। उन्होंने बताया कि इस मामले में तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। उनके खिलाफ जांच किया जा रहा है।

जहरीली शराब कांड के बाद आक्रामक पुलिस
गोपालगंज में जहरीला शराब पीने से हुई मौतों के बाद से शराब तस्करी के खिलाफ स्थानीय पुलिस के तेवर कड़े हो गए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सख्त निर्देश के बाद हर थाना की पुलिस शराब तस्करों के खिलाफ छापेमारी अभियान को युद्ध स्तर पर तेज कर दी है। जिससे शराब तस्करों के बीच हड़कंप मच गया है।

तस्करों को बख्शा नहीं जाएगा : एसपी

  • शराब तस्करी के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई काफी तेज हो गई है। इससे तस्करों में बौखलाहट है। उन्होंने कहा कि शराब तस्करी में शामिल लोगों को बख्शा नहीं जाएगा। - नीरज कुमार सिंह एसपी
खबरें और भी हैं...