पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विरोध:डुमरिया के मानिकपुर गांव में किसानों के खेत में उतरकर भाजपा का किया प्रदर्शन

डुमरियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ डुमरिया में भाजपा नेता धरना देते। - Dainik Bhaskar
राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ डुमरिया में भाजपा नेता धरना देते।
  • राज्यसभा सांसद समीर उरांव, पूर्व विधायक मेनका और लक्ष्मण टुडू ने भी किया समर्थन

राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ भाजपा नेताओं ने शुक्रवार को किसानों के खेत में उतरकर धरना दिया तथा जमकर प्रदर्शन किया। डुमरिया प्रखंड के अतिसुदूर माणिकपुर गांव में भी भाजपा नेताओं ने सरकार की नीतियों के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में राज्यसभा सांसद सह भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष समीर उरांव, पूर्व विधायक मेनका सरदार, लक्ष्मण टुडू, जिलाध्यक्ष सौरव चक्रवर्ती समेत पार्टी के कई प्रमुख नेता शामिल हुए।

मण्डल अध्यक्ष बेहुला नायक की अध्यक्षता में आयोजित धरना-प्रदर्शन में क्षेत्र के किसान ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। सांसद समीर उरांव ने आरोप लगाया कि राज्य की हेमंत सरकार किसानों का हक एवं अधिकार छीनने का कार्य कर रही है।

किसानों से क्रय की गई धान का अब तक सरकार ने सही से भुगतान नहीं किया है। बीते वर्ष मंत्री रामेश्वर उरांव ने बिचौलियों को फायदा पहुंचाने के उद्देश्य से किसानों के धान का सही से क्रय होने नहीं दिया था। मजबूरीवश किसानों को कम मूल्य पर ही धान की बिक्री बिचौलियों को करनी पड़ी थी।

किसानों ने सरकार को जो धान बेचा भी, उसका आज तक पूरा भुगतान नहीं हो पाया है। किसान एकबार फिर धान रोपने की दिशा में प्रयासरत है लेकिन बीते वर्ष के बकाया राशि का भुगतान नहीं होने के कारण किसानों की आर्थिक स्थिति काफी दयनीय हो गई है।

उन्होंने कहा कि सरकार में शामिल कांग्रेस पार्टी किसानों के मुद्दे पर दोहरा चरित्र अपना रही है। एक ओर कांग्रेसी नेता किसानों के मुद्दे पर दिल्ली में धरना-प्रदर्शन करती है और दूसरी ओर राज्य में किसानों के खिलाफ षड्यंत्र रचने का काम करती है। किसानों के धान का भुगतान तक नहीं करती है।

रास सांसद ने राज्य सरकार पर लगाया किसानों के शोषण का आरोप

सांसद ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार लगातार ही किसानों के हित में कदम उठा रही है। किसानों की आय दुगनी करने के लिए कृषि सुधार बिल लागू की जा रही है। मंडियों से बिचौलियावाद समाप्त की जा रही है। किसानों को उनके धान का पूरा समर्थन मूल्य मिले, इस दिशा में सरकार ठोस कदम उठा रही है। किसान सम्मान योजना लागू कर किसानों को आर्थिक रूप से फायदा पहुंचा रही है।

इसके उलट राज्य सरकार लगातार किसानों का शोषण कर रही है। चुनाव पूर्व किसानों से किये वायदे को पूरा करने के बजाए वादाखिलाफी कर रही है। पूर्व विधायक मेनका सरदार एवं लक्ष्मण टुडू ने भी राज्य सरकार को किसान विरोधी करार दिया।

कहा कि राज्य के मेहनकश किसानों के साथ सरकार सौतेला व्यवहार कर रही है। किसानों के बकाए राशि का भुगतान नहीं हो रहा है। धान के बीज भी किसानों को प्राप्त नहीं हो रहे है। मौके पर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारे भी लगाए गए।

धरना-प्रदर्शन में मंडल प्रभारी नौशाद आलम, जिला उपाध्यक्ष संजय अग्रवाल, हिमांशु मिश्रा, चंदन सिंह मुंडा, सुरेश महाली, गणेश सरदार, मनोज सरदार, दुखनीमई सरदार, महेश्वर हांसदा, पोरमा बानरा, धनंजय सिंह, सज्जाद खान, सतीश सरदार, संध्यारानी सरदार, शुवेंदु विकास पाणी, परमीत पूर्ती, शशि सिंह मुंडा, सुनील नाथ आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...