साथी हाथ बढ़ाना:महादलित टोला में श्रमदान से सड़क बनाने में जुटे ग्रामीण

डुमरिया20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्रमदान से सड़क बना रहे ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
श्रमदान से सड़क बना रहे ग्रामीण।
  • जनप्रतिनिधियों से कई बार गुहार लगाने के बाद भी नहीं हुआ सड़क निर्माण

प्रखंड के भोकहा पंचायत चहरा-पहरा का महादलित टोला चिहुलतर के लोग श्रमदान कर सड़क बना रहे हैं। आज तक यहां कभी कच्ची सडक भी नहीं थी, कटीली झाड़ियां एवं पथरीली पगडंडियों से आवागमन कर रहे हैं। इस गांव में बुनियादी सुविधा का अभाव है। यहां लोगों के आने जाने के लिए कच्ची सड़क तक भी नहीं है। बरसात के दिनों में जिंदगी बहुत दुश्वार हो जाती है। जनप्रतिनिधियों से कई बार गुहार लगाने के बाद भी सड़क नहीं बने। अब यह खुद से ही सड़क बनाने की ठानी है और चिहुलत्तर टोला के लोग श्रमदान से सड़क बना रहे हैं। 70 घरों की आबादी वाला यह महादलित टोला है। मरीजों को बहुत मुसीबत होती है।

ऐसे में वार्ड सदस्य यशवंत प्रसाद बताते हैं कि चुनाव जीतने के बाद इन सबकी समस्या का हल निकाला। लंबे समय से जमीन नहीं मिलने के कारण सड़क नहीं बन रही थी। अब सड़क के लिए अपनी जमीन भी दे रहे हैं । करीब 12 सौ फीट की दूरी तक यह सड़क लोगों के सहयोग से बनाई जा रही है। इस गांव की महिला महिला मुंडेश्वरी देवी और प्रमिला देवी बताती है कि गर्भवती महिलाओं को इलाज लिए ले जाना बहुत ही मुसीबत भरा काम होता। अब कम से कम घर से तो लोग जा सकेंगे। उस गांव के पंच एवं वृद्ध राजेंद्र भुइंया बताते हैं कि बहुत समस्या थे अंधेरे में कई बार लोग जाते थे और खतरा बढ़ जाता था। अब हम लोग सड़क बना रहे हैं। गांव के दर्जनों लोग महादेवडीह से चिहुलतर के बीच में जंगली झाड़ियों के व पत्थरों को भी हटा रहे हैं। समाजसेवी शशि पासवान ने बताया कि इस गांव की प्रमुख समस्या का आज तक किसी ने सुना इसलिए ग्रामीणों ने खुद से फैसला लिया है।

खबरें और भी हैं...