पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाहनों का आवागमन जारी:पुनपुन नदी पर बने स्टेट हाईवे के एप्रोच रोड में पड़ी दरार

फतुहा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 20 दिन पहले पास ही लोहे का पुल टूट गया था, पर उसकी अबतक नहीं हुई मरम्मत

शहर के दो इलाके को जोड़ने वाला कभी एनएच 30 का हिस्सा रहे ब्रिटिश काल के लोहा पुल के टूटने के 20 दिन से भी अधिक हो गए। पर, अभी इस पुल की मरम्मत भी नहीं हुई है। इधर, इसी सेे सटे पुनपुन नदी पर बने पुल व सड़क के बीच दरार पड़ गई है। यों कहे कि पुल को सड़क से जोड़ने वाले भाग में दरार पड़ गई है। यह दरार सड़क की इस छोर से दूसरी छोर तक फैल गई है।

दरार की चौड़ाई लगातार बढ़ती जा रही है। यदि इसे समय रहते ठीक नहीं किया गया तो यह पुल भी लोहा पुल की तरह कभी भी ध्वस्त हो सकता है। जब इस संबंध में पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि सड़क में दरार पड़ने की सूचना मिली है। जांच कर मरम्मत कराई जाएगी।
1988 में हुआ था निर्माण : लोहा पुल काे 1986 में रिजेक्ट कर देने के बाद 1988 में उस समय के एनएच 30 के लिए इस पुल का निर्माण राष्ट्रीय हाईवे प्राधिकरण द्वारा कराया गया था। इसके बनने के बाद पटना व कोलकाता तथा झारखंड आने-जाने के लिए इसी का इस्तेमाल किया जाता रहा। अभी पटना-बख्तियारपुर फोरलेन के विकल्प के तौर पर इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

अभी स्टेट हाईवे का है हिस्सा : सात साल पहले जब पटना-बख्तियारपुर फोरलेन का निर्माण हुआ तो यह सड़क स्टेट हाईवे में बदल गई। आज भी इसी पुल के रास्ते पटना व अन्य जगहों पर जाने के लिए वाहनों का आवागमन जारी है। कई भारी वाहन भी इससे गुजरते हैं।

खबरें और भी हैं...