बेखौफ अपराधियों ने वारदात को दिया अंजाम:कार में बाइक से मारा धक्का, शीशा खाेला ताे मूर्तिकार काे दाे गाेलियां मारीं, हालत गंभीर

फुलवारीशरीफ16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद जांच करी पुलिस एवं इनसेट में नंदकिशोर। - Dainik Bhaskar
घटना के बाद जांच करी पुलिस एवं इनसेट में नंदकिशोर।

बेउर थाना क्षेत्र के निदान अस्पताल के पास शुक्रवार की सुबह साढ़े सात बजे बाइक सवार अपराधी ने कार सवार 55 वर्षीय नंद किशोर उर्फ मुन्ना को छाती और चेहरे पर दो गोली मार दी। गोली लगने के बाद वे कार में ही लुढ़क गए। आसपास के लोग उन्हें पारस अस्पताल ले गए जहां उनकी हालत चिंताजनक बनी है। घटना के बाद एसएसपी, सिटी एसपी वेस्ट, प्रशिक्षु डीएसपी मौके पर पहुंचे और आसपास के सीसीटीवी फुटेज को खंगालने में जुट गए।

एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने कहा कि घटना के पीछे व्यक्तिगत विवाद हो सकता है। इसके अलावा लेन-देन समेत अन्य बिंदुओं पर भी जांच की जा रही है। सिटी एसपी वेस्ट राजेश कुमार ने बताया कि अबतक परिजन की ओर से आवेदन नहीं आया है। मूर्तिकार नंद किशोर उर्फ मुन्ना मूल रूप से दीदारगंज के निजामपुर गांव के रहने वाले हैं। वह परिवार के साथ हरणीचक में किराया के मकान में रहते हैं। उनका साईं कम्युनिटी मैरज हॉल भी हरनीचक में है। वह मूर्तिकार के अलावा लारा सेवा सदन के माध्यम से सामाजिक काम भी करते हैं।

नंदकिशोर की पत्नी नमीता देवी ने बताया कि रोज की तरह सुबह सात बजे नाश्ता करके राजवंशी नगर अपने वर्कशॉप के लिए कार से निकले। कार वह स्वयं चलाते हैं। पत्नी ने किसी से दुश्मनी से भी साफ इंकार किया है। नंद किशोर काे एक बेटा और एक बेटी है। बेटा बृज किशोर यादव सोनपुर में डाॅक्टर हैं, वहीं बेटी मनीषा कुमारी एनएमसीएच में डाॅक्टर है। घटना के बाद परिवार में कोहराम मच गया। पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है।

गोली मारकर अपराधी बेउर मोड़ की ओर भागे
लारा सेवा सदन के एकाउंटेंट मनीष कुमार ने बताया कि नंदकिशोर के साथ मैं भी वर्कशॉप जा रहा था। निदान अस्पताल के गेट पर जैसे ही पहुंचे, बाइक सवार एक युवक ने पीछे से कार में धक्का मारा। धक्का लगते ही नंदकिशोर ने शीशा खोल कर उससे पूछा तब तक अपराधी ने पिस्टल निकाल कर उनकी छाती और आंख के नीचे गोली मार दी और बेउर मोड़ की ओर फरार हो गए। उनको पारस अस्पताल ले गए जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

अपराधियों ने की होगी रेकी, शूटर ने दिया घटना को अंजाम
अपराधियों की नंद किशोर की हर एक्टिविटी पर नजर होगी। वह किस समय अपने वर्कशॉप जाते हैं, किस समय घर लौटते हैं, इसकी रेकी की होगी। जिस तरह से दिनदहाड़े अपराधियों ने गोली मारी है यह काम शूटर ही कर सकता है। शूटर को मालूम था कि जाड़े का समय है, सुबह में लोगों की रोड पर कम भीड़ रहती है। जिस समय घटना हुई उस समय अनीसाबाद मोड़ और बेउर मोड़ पर न तो गश्ती पुलिस थी और न ही ट्रैफिक पुलिस।जिस समय घटना हुई उस समय बिजली भी नहीं थी। पुलिस अनीसाबाद से बेउर मोड़ तक का सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। उधर पुलिस ने नंद किशोर के मोबाइल की जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...