पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सावधान रहें:जिले में 31 दिन में संक्रमित हुए 3976 लोग, 702 मरीजों ने वायरस को हराया

गोपालगंज11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जाता स्वास्थ्यकर्मी । - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जाता स्वास्थ्यकर्मी ।
  • फिर से फूटा कोरोना बम...24 घंटे में 365 लोग हुए कोरोना पॉजिटिव

पिछले 13 माह के कोरोना काल में इस बार अप्रैल के दूसरे सप्ताह से अब तक दिन सबसे भयावह साबित हो रहा है। खासकर कोरोना काउंट के मामले में। 15 अप्रैल से 3 मई के बीच अब तक का सबसे ज्यादा संक्रमण फैला। इस दौरान रोजाना 1200 से 1400 लोगों की जांच हुई है। इसमें 3976 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले। इसी बीच होने वाली 20 मौत को देख जिले के लोग भयभीत हो गए। हालांकि संक्रमित हुए लोगों ने अपना हौसला बनाए रखा और जिस गति से संक्रमण फैला उसी गति से जिलेवासियों ने कोरोना को मात देने का कमाल कर दिखाया।

कोरोना काल के 13 महीने की बात करें तो कुल 6 लाख 70 हजार लोगों का जांच किया गया। इनमें से अब तक 9 हजार 644 लोग पॉजिटिव हुए हैं। अप्रैल 2020 से अप्रैल 2021 के बीच 6 हजार 186 लोगों को वायरस को हराया है। इस अवधि में 36 लोगों की जान गई है। मालूम हो कि जिले में 16 अप्रैल से कोरोना से लोगों की मौत होना शुरू हो गई। एक के बाद एक कर 20 लोग दम तोड़ गए।

अप्रैल 2020 से अप्रैल 2021 के बीच 6 हजार 186 लोगों ने वायरस को हराया है

परेशानी बढ़ने का बड़ा कारण देरी से जांच कराना
कई मरीजों में परेशानी बढ़ने का सबसे बड़ा कारण देरी से जांच कराना है। लक्षण आने पर कई लोग तुरंत अस्पताल जाने से कतराते हैं। सदर अस्पताल में कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले नोडल अधिकारी डॉ. एसके झा ने बताया कि कोरोना से जितने भी लोगों की परेशानी बढ़ी है। वे सब लक्षण आने बाद देरी से अपनी जांच कराएं हैं। कई दिनों तक गांव में ही इलाज कराते रहें। बाद में गंभीर स्थिति हो जाने के बाद अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बताया कि ऐसे मरीज गंवई डॉक्टरों से गांव में ही इलाज कराने के बजाए पहले ही अस्पताल आ जाते तो उन्हें इतना इंफेक्शन ही नहीं हो पाता। स्वस्थ हुए मरीजों की स्टडी में भी यही बात सामने आई है। जो मरीज इतना जल्दी अस्पताल पहुंचा वह उतना ही तेजी से रिकवर हुआ।

संक्रमितों ने दिखाया हिम्मत...702 लोगों वायरस को हराया
अप्रैल के दूसरे सप्ताह में मरीजों की मृत्यु की खबर सुनकर अन्य संक्रमित भी हौसला हारने लगे। लेकिन इसी बीच हो आइसोलेशन व अस्पताल में भर्ती 58 लोग तेजी से रिकवर होने लगे। ऐसे लोगों को देख अन्य पॉजिटिव मरीजों की हिम्मत बढ़ी और देखते ही देखते स्वस्थ होने वाले मरीजों का आंकड़ा बढ़ने लगा। स्थिति यह रही कि 30 अप्रैल तक सामने आए कुल 3611 संक्रमितों में से 702 मरीजों ने कोरोना से जंग जीत ली और स्वस्थ होकर घर लौट आए।

परिजनों की हिम्मत दे रही उर्जा
सेंटरों भर्ती होकर ट्रीटमेंट ले रहे व होम आइसोलेशन में रह रहे पॉजिटिव मरीजों को परिजनों को देख नई उर्जा मिल रही है। अस्पताल कर्मचारियों के साथ इन दिनों मरीज के परिजन खुद ट्रीटमेंट के लिए संसाधन जुटाने में लगे हैं। घर वालों की यह मेहनत मरीजों को नई ऊर्जा देने का काम कर रही है।

2.52% कम हुआ रिकवरी दर
24 घंटे में 365 नए लोगों के संक्रमित होने के बाद रिकवरी दर 2.32% गिर कर 64.14% पर आ गया है। लगातार मरीज मिलने से जिले का रिकवरी रेट काफी गिर गया है। एक दिन पहले यह 66.66% था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें