कार्रवाई:फंदे पर लटकने से पहले शराब कांड के दोषी अपनी संपत्ति को देखेंगे नीलाम होते

गोपालगंज9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल कोर्ट के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में जाने के तैयारी में है दोषी पाए गए 13 आरोपी

गोपालगंज जिला प्रशासन ने खुजुरबानी कांड के दोषियों को दफन करने के लिए उनकी अपनी एक गज भी जमीन नहीं मिले इसकी पूरी तैयारी कर ली है। सभी फंदे पर लटकने से पहले अपनी एक एक इंच जमीन और संपत्ति नीलाम होते देखेंगे। जिलाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी ने गोपालगंज सीओ को जांच कर संपत्ति के आकलन का आदेश दिया है। जिसके बाद इसकी जांच शुरू कर दी है।प्रिंवेशन ऑफ मनी लाउंड्रिंग एक्ट(पीएमएलए) के तहत ईडी को संपत्ति जब्त करने का अधिकार है।

यही नहीं एक महीने के अंदर हरियाणा और बिहार के मुजफ्फरपुर से पकड़े गए शराब माफियाओं पर जल्द चार्जशीट दायर की जाएगी। साथ ही अवैध शराब की सप्लाई कर अकूत संपत्ति अर्जित करने वाले इन माफियाओं की संपत्ति को जब्त करने के लिए ईडी की मदद ली जाएगी।

शराब पीकर मरने वालों के परिवार काट रहे फटेहाल जिंदगी
16 अगस्त 2016 को नगर थाना के खुजुरबानी में जहरीली शराब पीने से 19 लोगों की मौत हो गई थी।जबकि 6 लोगों के आंखों की रोशनी खत्म हो गई थी।इस घटना ने पूरे राज्य को झकझोर कर रख दिया था। शराब पीकर मरने वालों के परिवार के सदस्य आज भी फटेहाल जिंदगी जी रहे है। कई के परिवार तो यहां से पलायन कर चुके है।

आगे जो वो कर सकते है
इस आदेश के बाद जेल में बंद दोषी अपनी संपत्ति दूसरे के नाम भी करने की कोशिश करेंगे।इसके लिए वो पैरोल की भी अर्जी दे सकते है। प्रशासन को पैनी नजर रखनी पड़ेगी।

जहरीली शराब पीने से इनकी हुई थी मौत
जहरीली शराब पीने से रहमान मियां, हरिकिशोर साह, जहरूदीन मियां, मुन्ना साह, राजेश राम, मुन्ना मियां, परमा महतो, मंटू गिरि, दीनानाथ मांझी, शोबराती मियां, रामजी शर्मा, दुर्गेश साह, शशिकांत, उमेश चौहान,झमिंद्र कुमार, विनोद सिह, अनिल राम, रामू राम, मनोज साह, भुटेली शर्मा की मौत हो गई थी।

दो लोगों की पहले ही हो चुकी है कुर्की जब्ती
सजा सुनाए जाने के पहले दो लोगों के घर की कुर्की जब्ती भी हो चुकी है।वहीं इस आदेश मिलने के बाद शराब कांड में दोषी पाए गए लोगों के परिजनों में दहशत का माहौल है।

शराब कांड से जुड़ा सबकुछ जो अबतक हुआ
एफआईआर - 18 अगस्त 2016
कांड संख्या -347/16
सूचक - बीपी आलोक इंस्पेक्टर
नामजद -14 लोग चार महिलाएं भी इसी में शामिल
गवाही - 7 लोगों की
चार्ज सीट - लोगों के विरुद्ध/19 अगस्त 2016
दोषी करार 22 फरवरी 2021
सजा पांच मार्च - 9 को फांसी की ,चार महिलाओं को आजीवन कारावास
अब संपत्ति जांच और जब्त करने का आदेश

खबरें और भी हैं...