पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

जीरादेई:अमन, अकीदत और भाईचारे के साथ मना बकरीद घरों में नमाज पढ़कर मांगी गई खुशहाली की दुआ

गोपालगंजएक दिन पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

शनिवार को ईद उल अजहा का त्योहार अमन और भाईचारें के साथ मनाया गया। लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों ने इस बार घर में ही नमाज अदा कर कुर्बानी दी । चाँदपाली मस्जिद के मौलाना क्यामुद्दीन ने बताया कि बकरीद के त्योहार में कुर्बानी का महत्व होता है रमजान के ठीक दो माह बाद आने वाले इस त्योहार का उत्साह लॉकडाउन की वजह से इस बार थोड़ा कम है। मौलाना ने बताया कि बकरीद के इस नमाज में हमलोगों ने खुदा से कोरोना महामारी से मुक्ति लिए इबादत किया। प्रखण्ड क्षेत्र के ठेपहॉ, मुइयाँ, चाँदपाली, रेपुरा, विजयीपुर सहित विभिन्न जगहों पर लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए बकरीद मनाई गई।

हसनपुरा में दी गई त्योहार की बधाई

हसनपुरा प्रखंड के सभी पंचायतों यथा अरंडा, हसनपुरा, उसरी बुजुर्ग, शेखपुरा, गायघाट, रजनपुरा, पकड़ी, लहेजी, हरपुर कोटवा, तेलकथू, फलपुरा, सहुली, मन्द्रपाली व पियाऊर में शनिवार को ईद-उल-जोहा का पर्व सादगी के साथ मनाया गया। इस दौरान मुस्लिम भाईयों ने सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर अकीदत से ईद-उल-जोहा की नमाज अदा की। हालांकि क्षेत्र की मस्जिदों में भींड़ नही देखी गई। लोग अपने-अपने घरों में नमाजें अदा की। इस पर्व को ले प्रशासन अलर्ट दिखा गया।

लोग इस बार सिर्फ सलाम आदाब करते हुए एक दूसरे को मुबारकबादी दी। बताते चलें कि इस्लामिक मान्यता के अनुसार हज़रत इब्राहिम अपने पुत्र हज़रत इस्माइल को इसी दिन खुदा के हुक्म पर खुदा कि राह में कुर्बान करने जा रहे थे, तो अल्लाह ने उसके पुत्र को जीवनदान दे दिया उनके बदले में दुम्बे की कुर्बानी हो गयी थी। जिसकी याद में यह पर्व मनाया जाता है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज रिश्तेदारों या पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा होगी। आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। कहीं फंसा हुआ पैसा भी आज मिलने की संभावना है। इसलिए उसे वसूल...

और पढ़ें

Advertisement