पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फैसला:टोल प्लाजा पर शुल्क, बिना फास्टैग लगे वाहनों को देनी होगी दोगुनी पेनाल्टी

गोपालगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कल बढ़ जाएंगे टोल प्लाजा पर शुल्क, फास्टैग लगाने से टोल प्लाजा पर रुकने से मिलेगी निजात, ऑटोमेटिक जमा हो जाएंगे शुल्क

एक अप्रैल से देश भर के टोल टैक्स पर फास्टैग की कीमतों में वृद्धि होगी। इसकी आधिकारिक घोषणा राष्ट्रीय राज मार्ग प्राधिकरण द्वारा कर दी गई है। एक अप्रैल से थावे के पास बने टोल टैक्स केंद्र पर भी शुल्क बढ़ जाएंगे। टोल प्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि पहले जिन छोटी गाड़ियों को 15 रुपये देने पड़ते थे उन्हें अब 25 रुपये देने पड़ेंगे । वही पेनाल्टी के रूप में 25 रुपये के बदले 50 रुपये देने पड़ेंगे। उन्होंने बताया कि सभी वाहनों में फास्टैग लगाना चाहिए ताकि वाहन चालक पेनाल्टी देने से बच जाय।

बतादें कि देशभर के टोल्स पर टैक्स का भुगतान फास्टैग के माध्यम से किया जा रहा है। अगर किसी वाहन पर फास्टैग नहीं है तो उससे दोगुना टैक्स वसूलने का प्रावधान है।भारत सरकार के द्वारा 1 जनवरी से इसे लागू किया गया था लेकिन थोड़ी राहत देते हुए 15 फरवरी तक इसमें छूट दे दी थी। जिसके बाद सभी वाहनों में फास्टैग अनिवार्य कर दिया गया है। बता दें कि देश में 80 प्रतिशत वाहनों पर फास्टैग लगाया जा चुका है। बाकी बचे वाहनों में भी इसे लगाने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

बैंक उपलब्ध करा रहे फास्टैग
अगर आप कार के लिए फास्टैग को खरीद रहे हैं तो आप इसे पेटीएम के जरिए 500 रुपये में भी खरीद सकते हैं। आप इसे अमेजन, स्नैपडील से भी खरीद सकते हैं। बता दें कि देश के ज्यादातर बैंको द्वारा इसे उपलब्ध करवाया जा रहा है।

फास्टैग से ऑटोमेटिक हो जाता है टोल प्लाजा पर पेमेंट
नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कोलेक्शन के द्वारा फास्टैग को विकसित किया गया है। इसे खासकर हाईवे पर यात्रा करने वाले लोगों के लिए तैयार किया गया है। यह रफ़ीड तकनीक पर काम करता है जो रेडियो फ्रीक्वेंसी के माध्यम से ऑटोमैटिक तरीके से टोल पर पेमेंट करता है। इससे आपको टोल पर रुकना नहीं पड़ता और यातायात निरंतर बना रहता है। साथ ही फास्टैग के होने से आपको टोल पर कैश देने की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। बता दें कि फास्टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाना होता है। वहीं टोल के पास कैमरा लगे होते हैं जो इस फास्टैग को डिटेक्ट कर ऑटोमैटिक मोड के माध्यम से आपके अकाउंट से पैसे को काट लेते हैं।

वाहन की कैटेगरी पर लगता है शुल्क
फास्टैग की कीमत की बात करें तो यह दो चीजों पर निर्भर करती है। पहला वाहन की कैटेगरी क्या है और दूसरा आप इसे कहां से खरीद रहे हैं। अगर आप इसे बस, कार, ट्रक, जीप या अन्य वाहनों के लिए खरीद रहे हैं तो आपको बता दें कि हर बैंक की फास्टैग की फीस और सिक्योरिटी डिपॉजिट को लेकर अलग अलग पॉलिसी है।
ऐजेंसी वसूलती है शुल्क
बता दें कि फास्टैग की व्यवस्था को लागू करने में राज्य सरकारों से सहयोग करने के लिए प्रवर्तन एजेंसियों को लगाने को कहा गया है। इस कारण राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण उक्त एजेंसियों को जरूरी सुविधाएं मुहैया कराएगा। जिससे जिन वाहनों पर फैस्टैग न हो उनसे टोल प्लाजा की लेन में दोगुना टैक्स वसूला जा सके।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें