पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:शिक्षित लोग भी छिपा रहे हैं संक्रमण के लक्षण: डॉ. रामेश्वर

गोपालगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद आरोग्य किट और आरोग्य काढ़ा के साथ होम क्वारेंटाइन हो रहे मरीज, जल्द हाे रहे ठीक

कोरोना टू में लगातार केस बढ़ता जा रहा है। सरकारी अस्पतालों के वेंटिलेटर वार्ड से लेकर कोविड अस्पतालों में मरीजो का ईलाज किया जा रहा है। कोरोना मरीजों के उपचार को लेकर गत वर्ष चर्चा में रहे शहर के जाने-माने डॉक्टर कोरोना टू को ज्यादा खतरनाक बता रहे हैं। आरडीएम स्वास्थ्य जांच केंद्र के डॉ. राजन कुमार ने बताया कि इस बार संक्रमित रोगियों की संख्या पिछले साल की तुलना में अधिक देखी जा रही है। अब मरीज बहुत सहजता के साथ होम क्वारेंटाइन में रह रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि सरकारी अस्पतालों से पॉजिटिव मरीजों को किट के साथ आरोग्य काढ़ा पीने को कहा जा रहा है।

वैक्सीनेशन के बाद भी पूरी तरह से एहतियात बरतना है : डॉ. नीलम
चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीलम ने बताया कि लोगों में जागरूकता अधिक आई है इसीलिए जांच तेजी से हो रहा है और संक्रमण के मामले भी अधिक मिल रहे हैं। दुख की बात यह है कि अभी भी हमारे समाज के पढ़े-लिखे लोग इस बीमारी को छिपा रहे हैं अथवा जांच कराने से परहेज कर रहे हैं।

वैक्सीन आने के बाद लोगों में अधिक लापरवाही देखी जा रही है : डॉ. काजल
डॉ. काजल सिंह ने बताया कि इस बार की स्थिति बहुत अधिक भयावह है क्योंकि पिछले साल लोग कोरोना संक्रमण के खतरे को पहली बार महसूस कर अत्यधिक एहतियात बरत रहे थे। इस बार वैक्सीन आने के बाद लोगों में लापरवाही अधिक देखी जा रही है। उन्होंने बताया कि पिछले साल एक बहुत ही सीरियस केस आया था।

खबरें और भी हैं...