पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:किसान बोले-लॉकडाउन के कारण नहीं मिल रहे हैं खरीदार, पूंजी भी निकालना हुआ कठिन

गोपालगंज24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लाॅकडाउन और बेमौसम बारिश ने तोड़ी सब्जी किसानों की कमर

हरी सब्जियों की कम कीमत से परेशान किसान अब सब्जियों के खराब होने की मार झेल रहे हैं। बे मौसम बारिश व आंधी से कई सब्जियों की फसल बर्बाद हो गई है। इस कारण सब्जी किसान परेशान हैं। पिछले दिनों हुई बारिश ने किसानों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी। इससे किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस बार सब्जियों की पैदावार अच्छी थी।

इसी बीच लॉकडाउन की मार और बारिश ने किसानों की आर्थिक कमर तोड़ दी है। खेतों में पानी भर जाने के कारण सब्जियां बर्बाद हो गई हैं। लाॅकडाउन के कारण खरीदार भी नहीं मिल रहे हैं। किसान बहुत कम कीमत पर सब्जी बेच रहे हैं। लागत भी निकालना मुश्किल हो गया है। किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है। उम्मीदें टूट गई हैं। कर्ज चुकाना मुश्किल हो रहा है।

पीड़ित किसानों की पीड़ा
सदर प्रखंड के चैनपट्टी गांव के अमरेन्द्र कुमार सिंह, व्यास प्रसाद, बसडिला गांव के किसानों का कहना है कि स्थानीय बाजार हाट बंद होने से बाहर शहर स्थित बाजार में सब्जी बेचना मजबूरी हैं लेकिन वहां व्यापारी न होने के चलते आधे से कम दर पर सब्जियां बिक रही हैं। केवल मजदूरों का खर्च ही निकल पा रहा है। यहां के ही किसान रामनाथ तुरहां बताते हैं कि बेमौसम बारिश ने करेले की फसल चौपट कर दी है। सब्जी की बिक्री न होने के चलते इस वर्ष लागत निकलना मुश्किल हो गया है।सदर प्रखंड एक दर्जन पंचायत और गंडक नदी के किनारे सभी पंचायत के करीब हर गांव सब्जियों के खेती पर निर्भर है।

बारिश ने सब्जी की फसल को सबसे ज्यादा पहुंचाया नुकसान|बारिश ने सब्जी की फसल को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। इस बारिश से टमाटर,नेनुआ, हरा मिर्ची, पालक साग, धनिया पत्ता के साथ-साथ तरबूज, ककड़ी, खीरा सहित अन्य फसलों को नुकसान पहुंचाया है। किसान वैसे स्थिति में सब्जी को ओने-पौने दाम पर बेचने पर मजबूर हैं। जबकि अधिकतर किसान सब्जी को खेत में ही छोड़ दे रहे हैं। किसान रामसेवक तुरहा ने बताया कि करीब 10 कट्ठा में लगा टमाटर फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गया। एक तरफ बारिश तो दूसरी तरफ आंशिक लॉकडाउन ने किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है। दियारा के किसान जगदीश बीन कहते हैं।

खबरें और भी हैं...