पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:सदर अस्पताल के सामने चल रहे है अवैध क्लिनिक

गोपालगंज16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य विभाग फर्जी क्लिनिकों पर कार्रवाई करने में कर रही खानापूर्ति, ,बिना डिग्री कर रहे है इलाज

नीम हाकिम खतरेजान से जिलेवासियों को छुटकारा नहीं मिल रहा है। आज भी जिले के विभिन्न इलाकों में झोला छाप, गैर प्रशिक्षित तथा गैर निबंधित चिकित्सालय व नर्सिंग होम बेरोकटोक संचालित है। लगातार मीडिया में बात आने के बाद तत्कालीन डीएम अनिमेष पराशर ने शहर में सदर सीओ विजय कुमार सिंह व बीडीओ पंकज कुमार शक्तिधर से जांच कराया था। एक दर्जन अवैध नसिंगहोम को पकड़ा गया था। इसी प्र्रकार उनके आदेश पर वरीय समाहर्ता स्तर के अधिकारी से विभिन्न प्रखंडों में इसकी जांच कराई गयी थी जिसमें कुछ फ़र्ज़ी नर्सिंग संचालकों पर कार्रवाई की गई थी।

डीएम ने जांच के लिए बनाई टीम
शहर एवं प्रखंड क्षेत्र में कार्य कर रहे फर्जी डॉक्टर के क्लिनिक की जांच करने को लेकर डीएम डाॅ नवल किशोर चौधरी ने अधिकारियो की टीम बनाने का आदेश दिया है। इसके साथ ही जिला के प्रत्येक अस्पताल प्रभारी को क्लिनिक एवं डॉक्टर के प्रमाण पत्र की जांच करेंगे। कई लोगों का मानना है कि फर्जी डॉक्टर के दलालों द्वारा कार्रवाई करने में अधिकारियों का मैनेज करने में लगे हुए है।

ऑपरेशन थियेटर के बैगर करते है ऑपरेशन
आलम यह रहा कि दो चार दिन फ़र्ज़ी क्लिनिक बंद रहे हैं। लेकिन वे धीरे धीरे क्लिनिक पुन:संचालित होने शुरू हो गए है। बताया जाता है कि ऐसे क्लिनिक में न तो प्रशिक्षित डॉक्टर ही उपलब्ध रहते है और न ही कोई ढंग का ऑपरेशन थियेटर। बावजूद हाइड्रोसील, गोल ब्लाडर, एपेंडिक्स, स्टोन तथा यूटरस के ऑपरेशन प्रतिदिन हो रहे है। पिछली बार जांच में यह पाया गया था कि जिस ऑपरेशन थियेटर में यूटरस गोल ब्लाडर, एपेंडिक्स आदि का ऑपरेशन किया जा रहा है उसमें न तो ढंग का लाइट का इंतजाम था न ही लाइव सपोट सिस्टम था तथा सर्जरी का जिस ऑपरेटर्स का इस्तेमाल किया जाता है उसे भी सेनेटाइज़ करने के लिए उपकरण उपलब्ध नहीं थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें