कोरोना का प्रभाव / जेपी विवि प्रशासन ने लिया यू टर्न, अगले आदेश तक के लिए परीक्षाएं स्थगित, नहीं मिलीं अनुमति

JP University administration took U-turn, examinations postponed till further orders, permission not received
X
JP University administration took U-turn, examinations postponed till further orders, permission not received

  • 3 जुलाई से बीएड फर्स्ट ईयर व 13 जुलाई से डिग्री टू की होनी थी परीक्षाएं, हुईं स्थगित
  • विवि ने परीक्षा शेड्यूल जारी करने के साथ ही कर ली थी सारी तैयारी

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

गोपालगंज. जेपीविवि प्रशासन ने बीएड व डिग्री टू के छात्रों के परीक्षा मामले पर आखिरकार  यूटर्न लेते हुए दोनों परीक्षाओं को स्थगित करने की घोषणा कर दी है। सोमवार को जेपीविवि के परीक्षा नियंत्रक डा.अनिल कुमार सिंह ने कार्यालय आदेश जारी कर दोनों परीक्षाओं को अगले आदेश तक स्थगित करने का निर्देश दिया है। कुलपति के आदेश पर परीक्षा को स्थगित करने का निर्देश देते हुए परीक्षा नियंत्रक डा.सिंह ने विवि के सभी कॉलेजों के प्राचार्यों एवं प्रभारी प्राचार्यों को अपने यहां सूचना पट्‌ट पर परीक्षा को स्थगित किए जाने संबधित नोटिस को लगाने को कहा है।

बताते चलें कि विवि प्रशासन 3 जुलाई से बीएड के सत्र 2019-2021फर्स्ट ईयर की परीक्षा लेने वाला था। इसके लिए विवि द्वारा छपरा में जगदम कॉलेज तथा सीवान एवं गोपालगंज के छात्रों के लिए डीएवी कॉलेज सीवान एवं राजा सिंह कॉलेज सीवान को परीक्षा केन्द्र निर्धारित किया गया था।

दूसरी बार भी नहीं हो सकेगा यूजी की परीक्षाएं
उधर बीएड के साथ ही विवि प्रशासन द्वारा  सत्र 2017-2020 स्नातक पार्ट टू की लंबित परीक्षा के आयोजन के निर्णय को भी ठंडे बस्ते में डालना पड़ रहा है। विवि प्रशासन द्वारा 13 जुलाई से निर्धारित परीक्षा भी अंतत: दूसरी बार भी टालना पड़ा। मालूम हो कि पूर्व पार्ट टू की परीक्षा 19 मार्च से निर्धारित थी। इसके लिए परीक्षा शेड्यूल  भी जारी कर दिया गया था। हालांकि कोविड-19 के कारण विवि द्वारा परीक्षा को स्थगित कर दिया गया था।

उधर अनलॉक वन में विवि पुन: इस परीक्षा के आयोजन के लिए नया शेड्यूल जारी कर 13 जुलाई से परीक्षा आयोजित करने  वाला था। हालांकि अंतत: विवि प्रशासन ने दोनों परीक्षाओं को अगले आदेश तक के लिए स्थगित करने की घोषणा कर दी है। मालूम हो कि डिग्री टू की परीक्षा में सारण प्रमंडल के तीनों जिले से करीब 25 हजार 253 परीक्षार्थी शामिल होने वाले थे।

नए शेड्यूल में बढ़ाए गए थे परीक्षा केन्द्र
कोविड -19 महामारी के बीच परीक्षा के आयोजन से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके इसके लिए विवि द्वारा स्नातक पार्ट टू परीक्षा के आयोजन के लिए पूर्व की तुलना में कुल 4 परीक्षा केन्द्र बढ़ा दिए गए थे। पूर्व में जारी शेड्यूल में जहां पूरे प्रमंडल में मात्र 12 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे। वहीं 13 जुलाई से शुरू होने वाले पार्ट टू की परीक्षा के लिए विवि प्रशासन ने 4 परीक्षा केन्द्र का इजाफा करते हुए कुल 16 परीक्षा केन्द्र निर्धारित किया था ।
शुरू से ही छात्र परीक्षा का कर रहे थे विरोध
विवि प्रशासन द्वारा बीएड प्रथम वर्ष  व डिग्री टू की परीक्षा का शेड्यूल जारी करने के साथ ही कई छात्र संगठनों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया था। छात्र कोरोना महामारी में परीक्षा के आयोजन को छात्रों के जान से खिलवाड़ करने वाला निर्णय बता रहे थें। उधर छात्रों के बाद शिक्षक भी परीक्षा आयोजन सवाल उठाने लगे थे। जेपीविवि शिक्षक संघ  के सचिव शिशिर कुमार सिंह ने कुलपति को पत्र लिखकर वर्तमान परिस्थिति में विवि द्वारा परीक्षा आयोजन के औचित्य पर सवाल उठाया था।  पटना विवि का उदाहरण देते हुए उन्होने जेपीविवि द्वारा जुलाई में आहुत परीक्षाओं को स्थिति सामान्य होने तक स्थगित रखने की मांग की थी।

जिला प्रशासन से भी नहीं मिल पाई थी अनुमति
जेपीविवि अंर्तगत होने वाली परीक्षाओं के लिए  पूरे सारण प्रमंडल के तीनों जिले में केन्द्र निर्धारित होता है। ऐसे में विवि प्रशासन द्वारा परीक्षा आयेाजन के लिए हर बार स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना देने के साथ ही सहयोग के लिए प्रत्र लिखा जाता था। इस बार भी विवि द्वारा सारण के  प्रमंडलीय आयुक्त को पत्र लिखकर 3 जुलाई से बीएड व 13 जुलाई से डिग्री टू की परीक्षा आयोजन संबंधी अनुमति मांगा गया था।

सूत्रों की माने तो वहां से अनुमति नहीं मिल पाई थी। आयुक्त कार्यालय द्वारा इसके लिए राज्य सरकार से अनुमति लेने को कहा गया था। बहरहाल परीक्षा स्थगित होने से छात्रों में थोड़ी खुशी थोड़ा गम है। खुशी इस बात की कि कोरोना महामारी के समय वे परीक्षा में शामिल होने की बाध्यता से  वे बच जाएंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना