सिविल कोर्ट के नए भवन में लगेगी लोक अदालत:11 दिसंबर को लगेगी लोक अदालत, 17 बेंचों पर न्यायाधीश करेंगे सुनवाई

गोपालगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल कोर्ट के नए भवन में लगेगा लोक अदालत। - Dainik Bhaskar
सिविल कोर्ट के नए भवन में लगेगा लोक अदालत।
  • बैंकिंग, विद्युत, श्रम, मापतौल और परिवहन विभागों के मामलों का होगा निपटारा

11 दिसंबर को गोपालगंज सिविल कोर्ट के नए भवन में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जाना है। 17 बेंच कोर्ट में लगाया जाएगा। यह जानकारी जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव बालेन्द्र शुक्ला ने दी। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। इसका आयोजन जिला न्यायाधीश की अध्यक्षता में होगा।लोक अदालत में आपराधिक शमनीय वाद, धारा 138 एनआई एक्ट, बैक लोन वसूली वाद, मोटर वाहन दुर्घटना प्रतिकर याचिकाएं, लेबर डिस्प्यूट केसेज, विद्युत व जल बिल, पारिवारिक/वैवाहिक मामले, भूमि अधिग्रहण वाद, वेतन भत्ते, राजस्व मामले ,वैवाहिक, श्रम, किराया, मनरेगा, वन अधिनियम, आपदा मुआवजा और अन्य सिविल वादों का निस्तारण होगा। ऐसे वादकारी, जिनके मामले किसी भी न्यायालय में लंबित हैं, वे अपने मामलों को संबंधित न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर लोक अदालत में ला सकते हैं।
बैंकों ने अपने उपभोक्ताओं को नोटिस भेजना शुरू किया
विभिन्न बैंकों ने 11 दिसंबर को व्यवहार न्यायालय में लगाए जाने वाले लोक अदालत के लिए बैंक के सभी ऋणी उपभोक्ताओं को नोटिस भेजना शुरू कर दिया है । इस बार की लोक अदालत में विशेष रूप से बैंक केसों व चेक बाउंस के केस निपटाए जाएंगे। इनमें न सिर्फ बैंकों को लाभ पहुंचेगा बल्कि उपभोक्ताओं को भी लाभ होगा। यह कम खर्चे में केस सुलझाने का आसान तरीका है। इस लोक अदालत के दौरान विभिन्न स्तरों पर लंबित मामले भी किसी पार्टी की पहल से लोक अदालत में शामिल किया जा सकता है।

वादों के निपटारे के लिए बनाए गए अलग अलग बेंच
उन्होंने बताया कि मंगलवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश विष्णुदेव उपाध्याय के अध्यक्षता में बैठक हुई। जिसमें विद्युत,माप-तौल और लेबर संबंधी वादों का भी निपटारा किया जाएगा। जिसमें 17 बेंच बनाई गई है। जिसपर अलग-अलग वादों का निपटारा किया जाएगा। इन बेंचों पर पारिवारिक मामलों ,मोटर दुर्घटना वाद,बिहार ग्रामीण बैंक से संबंधित ऋण, दूसरे बेंच पर बिहार ग्रामीण बैंक को छोड़कर शेष सभी बैंकों के ऋण वाद के निपटारा,सभी सुलहनीय आपराधिक वाद,सुलहनीय आपराधिक वाद एवं एनआई एक्ट से संबंधी मामले,संबंधित सुलहनीय आपराधिक वाद ,विद्युत, वन श्रम, मापतौल, तथा अन्य समस्त वाद के लिए अलग अलग बेंच बनाएं गए है। जिसकी तैयारी अंतिम चरण में है।

खबरें और भी हैं...