एफआईआर:29 नवंबर को अधिवक्ता पर चलाई गई थी गोली, दर्ज नहीं कराई थी एफआईआर

गोपालगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौनिया चौक पर वकील के हत्या के बाद जाम करते हुए अधिवक्ता। - Dainik Bhaskar
मौनिया चौक पर वकील के हत्या के बाद जाम करते हुए अधिवक्ता।
  • हत्या के बाद दहशत में आया अधिवक्ता का परिवार, अधिवक्ता को पहले भी अपराधियों ने दी थी धमकी, घर की बढ़ाई गई सुरक्षा

अधिवक्ता की हत्या के बाद से परिजन दहशत में है।परिजनों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सदर के अनुमंडल पुलिस अधिकारी संजीव कुमार सिंह ने बताया कि वकील की हत्या के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है पुलिस पूरे मामले की सभी बिंदु पर जांच कर रही है। इधर, पुलिस सूत्रों के मुताबिक मृतक अधिवक्ता को पहले भी अपराधियों ने धमकी दी थी, लेकिन इसकी रिपोर्ट पुलिस थाने में नहीं दी गई थी।

इन बिंदुओं पर पुलिस टीम की हो रहीं जांच

  • अधिवक्ता की किसी से दुश्मनी तो नहीं थी।
  • जमीन के कारोबार से भी जुड़े थे अधिवक्ता,इसको लेकर किसी से विवाद तो नही था।
  • किस केस को उन्होंने जीता था।धमकी देने वाला कौन था।
  • अपराधियों ने टारगेट कर मारा, बाइक उनके साथी चला रहे थे।
  • कोर्ट आने के पहले किसी से फोन पर आधे घंटे बात हुई थी।
  • अपराधियों के निशाने पर पहले भी रहे है अधिवक्ता
  • 31 मई 2015 को अधिवक्ता त्रिपुरारी शरण शर्मा की हत्या ।
  • 2019 में अधिवक्ता सुमन वर्णवाल की हत्या।
  • 2020 में अधिवक्ता राजेश गिरी की हत्या।
  • 7 दिसंबर 2021 को अधिवक्ता राजेश पांडेय की हत्या।
  • 27 जनवरी 2011 कोर्ट में भूटंडी नट के द्वारा अधिवक्ता प्रेमचंद प्रसाद पर जानलेवा हमला ।
  • 17 जुलाई 2016 को अधिवक्ता इरशाद अली पर हमला।
  • 24 मई 2017 को अधिवक्ता रामनरेश चौबे और उनके पुत्र पर हमला।
  • 23 फरवरी दो हजार अट्ठारह अधिवक्ता अजय कुमार ओझा पर हमला।
  • -{4 जून 2018 को अधिवक्ता शंभू दत्त के साथ मारपीट।
खबरें और भी हैं...