पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हड़ताल:पीडीएस दुकानदारों ने मांगों को लेकर हड़ताल पर गए

गोपालगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य फेयर प्राइस डीलर एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री कृष्ण कुमार सिंह और अध्यक्ष वरुण कुमार सिंह के आवाह्नन पर संघ के आठ सूत्रीं मांगों के साथ साथ डीलरों के अंगूठे से ही उपभोक्ताओं को खद्यान वितरण करने और राजस्थान सरकार के आदेश के तर्ज पर डीलरों के मृत्यु के पश्चात उनके आश्रित को 50 लाख रुपए मुआवजा राशि भुगतान करने का आदेश जैसे मांगों को लेकर प्रदेश तथा जिले के तमाम जन वितरण प्रणाली दुकानदार अनिश्चित कालीन हड़ताल पर 5 मई से चले गए हैं। जिसको लेकर जिले के सभी प्रखंड के सचिव एवं अध्यक्ष के साथ साथ जिला संघ के पदाधिकारी के मौजूदगी में इसका निर्णय लेकर इसकी सूचना जिलाधिकारी को लिखित रूप में दे दी गई हैं। इसके साथ ही मुख्यमंत्री एवं उनके विभागीय सचिव को भी दी गई हैं।
हड़ताल की लिखित जानकारी 5 मई को डीएम को दी
एसोसिएशन की ओर से 5 मई को ही डीएम को इस आशय की जानकारी दे दी गयी है। दी गयी लिखित जानकारी में कहा गया है कि कोरोना महामारी से बचाव को लेकर पीपीई कीट, सेनेटाईजर, साबुन की मांग की गयी थी, लेकिन सरकार की ओर से अब तक पूरा नहीं किया गया। बावजूद इसके राशन वितरण का काम पॉश मशीन से कराये जाने का दबाव बनाया जा रहा है। पॉश मशीन पर अंगूठा लगाकर राशन वितरण करने से कोरोना महामारी को आमंत्रित करना है।
एक दर्जन डीलर कोरोना की बिमारी से जान गवां चुके
फेयर प्राइस डीलर एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष दु:खी राम एवं महामंत्री सुधांशु कुमार तिवारी ने कहा कि जिले सभी डिलरों एवं प्रखंड अध्यक्ष एवं सचिव को जानकारी होना चाहिए कि जान है तो जहान हैं। जैसा की सरकार का फरमान हैं। लेकिन इसके विपरित सरकार डीलरों से बंधुआ मजदूर की तरह गरीब और अनपढ़ उपभोक्ताओं का अंगूठा पकड़ कर पॉस मशीन पर निशान दिलवाते आ रही हाँ। जिसके फल स्वरूप पंचदेवरी प्रखंड के शंकर लाल पंचायत राजापुर,कुचायकोट के वीरेंद्र राय पंचायत पुर खास और कुचायकोट प्रखंड भिक्षुक राम,बखरी सासामुसा अवधेश चौबे राम बालक सिंह तिरबरवा, बरौली प्रखंड के सिंटू कुमार, चंदन कुमार, संजय सिंह,थावे प्रखंड के माना सिंह, इंद्रवा, गोपालगंज वार्ड नंबर 28 के वीरेंद्र सिंह जन वितरण दुकानदारों ने कारोना के कारण अपना दम तोड़ दिया है तथा हरकी राम, संतोष मांझी और धर्मनाथ मांझी का हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। ऐसी स्थिति में सभी डीलरों को अपना जान बचाना है, तो उपभोक्ता का अगूंठा पकड़ कर पास मशीन पर नहीं लगाना हैं।

खबरें और भी हैं...