पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जयंती मनाई:विनोवा की 126 वीं जयंती, तैलीय चित्र पर लोगों ने किया माल्यार्पण

बैकुंठपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नोबा भावे जी ने लोगों में त्याग की भावना के लिए देश भर में भूदान आंदोलन चलाया औरनिर्धन गरीबों को जमीन उपलब्ध कराया

खोरमपुर में छट्ठू भगत पटेल सेवा समिति द्वारा संत विनोबा भावे की 126 वीं जयंती मनाई गई। जदयू के पूर्व जिला महासचिव अभय पांडेय ने कहा कि वे महात्मा गांधी के अनुयायी थे। समाज में भाईचारा एवं अमन चैन के मजबूत पक्षधर थे। वे भारत के प्रमुख स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता एवं प्रसिद्ध गांधीवादी थे। उनका मूल नाम बिनायक नारहरि भावे था। उन्हें भारत का राष्ट्रीय अध्यापक एवं महात्मा गांधी का आध्यात्मिक उत्तराधिकारी समझा जाता है।

नोबा भावे जी ने लोगों में त्याग की भावना के लिए देश भर में भूदान आंदोलन चलाया औरनिर्धन गरीबों को जमीन उपलब्ध कराया। उन्हें भारतरत्न की उपाधि से नवाजा गया था। संत विनोबा भावे के जीवन से आज के युवा पीढ़ी को सीखने की जरूरत है। उनका जीवन दर्शन समाज के लिए अनुकरणीय है। मौके पर रामपाल प्रसाद, ब्रजेंद्र दुबे, संतोष पटेल, रंगीला पटेल, राजेश सिंह, रामसुमेर पटेल, रूपेश केजरीवाल, अंकित पटेल, जितेंद्र पटेल, रौशन पांडेय, श्रीअवतार सिंह, एआर रहमान पप्पू, अंकेश पाठक, रामाश्रय प्रसाद, त्रिभु पांडेय सहित कई लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...