गोपालगंज में 3 कुख्यात गिरफ्तार:मास्टरमाइंड भी दबोचा गया, 2 करोड़ कमाने का रखा था लक्ष्य; ज्वेलरी भी बरामद किया गया

गोपालगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस के साथ गिरफ्तार आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस के साथ गिरफ्तार आरोपी।

गोपालगंज पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने अंतरराज्यीय लुटेरा गिरोह के मास्टर माइंड समेत तीन कुख्यात अपराधियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गये इन अपराधियों के पास से आभूषण दुकानों से लूटी गई ज्वेलरी और एक पिस्टल, तीन जिंदा कारतूस और लूट के पांच हजार बरामद किए गए हैं। एसपी की ओर से गठित एसटीएफ ने यह कार्रवाई उचकागांव थाना क्षेत्र के भुअला गांव के पास मंगववार को की है।

एसआईटी ने की छापेमारी कर कार्रवाई
एसआइटी की छापेमारी के दौरान अपराधियों ने पुलिस टीम पर फायरिंग भी की, जिसमे पुलिस बाल-बाल बच गयी। गोपालगंज के एसपी आनंद कुमार ने कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया कि गिरफ्तार बदमाश लूट, रंगदारी, डकैती समेत 20 से अधिक अपराधिक घटनाओं में संलिप्त हैं। इनके खिलाफ सीवान और गोपालगंज के विभिन्न थानों में अपराधिक मामले दर्ज हैं।

डकैती की योजना बनाते हुए गिरफ्तार
एसपी ने बताया कि कल शाम गुप्त सूचना मिली कि तीन अंतरराज्यीय अपराधी उचकागांव थाना क्षेत्र के जमसड़ हाता एवं भुअला गांव के बीच सुनसान स्थान पर डकैती की योजना बना रहे हैं। प्राप्त सूचना के आधार पर मामले को गंभीरता से लेते हुए हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार के नेतृत्व में एसटीएफ के सहयोग से छापेमारी की गयी।

छापेमारी के दौरान अपराधियों ने पुलिस को देखते ही गोली चलानी शुरू कर दी। जिसमें पुलिस बाल-बाल बच गयी। हालांकि पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए तीनों अपराधियों को मौके पर दबोच लिया। पकड़े गये अपराधी मीरगंज थाना क्षेत्र के सबेया के रहनेवाले सर्फुद्दीन नट का पुत्र कुख्यात सद्दाम नट, इसी थाने के पेउली गांव के दारोगा मियां का पुत्र मंजूर आलम तथा निजामुद्दीन अली का पुत्र मो. मुस्ताक अली बताये गये हैं। इन तीनों में से लुटेरा गिरोह का मास्टर माइंड सद्दाम नट बताया जाता है।

प्रत्येक फायरिंग पर वसूलता था 50 हजार
गिरफ्तार अपराधियों के बारे में एसपी आनंद कुमार ने खुलासा करते हुए कहा कि तीनों अपराधी पेशेवर लुटेरे हैं। मास्टर माइंड सद्दाम हाल ही में जेल से जमानत पर निकला है। पिछले दिनों बथुआ बाजार में किराना और दवा की होलसेल दुकान पर हुई गोलीबारी में शामिल रहा। जिसमें एक फायरिंग के 50 हजार रुपये वसूल किया था। प्रत्येक गोली की फायरिंग पर 50 हजार रुपये का डिमांड करता था।

इसके बाद सीवान के रघुनाथपुर में हाल में आभूषण में डकैती की। उचकागांव थाना क्षेत्र के अरना बाजार में दो आभूषण दुकानों में डकैती की। एक-एक कर 20 अपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया। ज्वेलरी दुकानों पर लूटपाट करने के बाद यूपी और बिहार के आभूषण दुकानदारों से बेचता था। इस मामले में पांच ज्वेलरी दुकानदारों को भी चिन्हित किया गया है, जिनकी गिरफ्तारी की जायेगी।

सद्दाम ने 2 करोड़ रुपये कमाने रखा था लक्ष्य
एसपी ने बताया कि मास्टर माइंड सद्दाम नट ने लेवी और लूटपाट से दो करोड़ रुपये कमाने का लक्ष्य रखा था। जिसके बाद वह अपराधिक गतिविधियां से बाहर निकलता चाहता था। इन लुटेरों की गिरफ्तारी के बाद से लूट की वारदात में कुछ कमी आने की संभावना बतायी गयी। वहीं पुलिस ने राहत की सांस ली है। एसपी ने बताया कि इन बड़ी वारदात का खुलासा करने में पुलिसकर्मियों का योगदान काफी सराहनीय रहा है। इन्हें पुरस्कृत करने के लिए मुख्यालय को अनुशंसा की जायेगी