10 चरणों में होगा पंचायत चुनाव:जिले के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में अंतिम चरण में हाेगा मतदान

गोपालगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंचायत कार्यालय। - Dainik Bhaskar
पंचायत कार्यालय।
  • आयोग ने जिले में पंचायत चुनाव को लेकर पंचायत चुनाव में प्रचार के लिए मस्जिद, गिरजाघर, मंदिर या अन्य पूजा स्थल का नहीं होगा उपयोग

आयोग ने जिले में पंचायत चुनाव को लेकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अंतिम चरण में मतदान की तैयारी करने का निर्देश दियाहैं। जिले में 10 चरणों में होने जा रहे पंचायत चुनाव की तिथियां 20 सितम्बर से 25 नवम्बर के बीच रखी गई हैं। आयोग की तरफ से चुनावी तिथियों से जुड़ा प्रस्ताव जिला पंचायती राज विभाग को मिला है। जिले के 6 प्रखंड बाढ़ की चपेट है। गोपालगंज,मांझा,बरौली,सिधवलिया,बैकुंठपुर और कुचायकोट प्रखंड के आधे अधिक पंचायत बाढ़ से प्रभावित है।

सूत्रों के अनुसार नवंबर में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में चुनाव होंगे। आयोग ने 25 नवंबर को दसवें एवं अंतिम चरणों के चुनाव की अनुशंसा की है। सूत्रों के अनुसार जिले में बाढ़ की स्थिति देखते हुए शेष क्षेत्रों में पहले ही चुनाव कराने पर जोर दिया गया है। 20 अगस्त को पंचायत आम चुनाव की घोषणा पंचायती राज विभाग द्वारा किए जाने की संभावना बताई जा रही है। जबकि सितंबर से नवंबर के बीच सभी पंचायतों में आम चुनाव संपन्न करा लिए जाएंगे।

इन तारीखों को चुनाव कराने का जारी पत्र|राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायती राज विभाग को जो प्रस्ताव भेजा गया है उस पत्र के अनुसार मतदान की तारीख़ 20 और 24 सितम्बर, 4, 8, 18, 22 और 31 अक्टूबर, 7, 15 और 25 नवंबर 21 हो सकती हैं।

अधिसूचना के पूर्व पंचायतों का पुनर्गठन कार्य होगा पूरा
सूत्रों के अनुसार पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी होने के पूर्व पंचायतों का पुनर्गठन, मतदाता सूची का संशोधन, मतदान केंद्रों का निर्धारण इत्यादि की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इसके लिए आयोग ने डीएम को आवश्यक निर्देश दिए गए है। इसके साथ ही, मतदान कर्मियों के प्रशिक्षण कार्य को भी पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

आयोग ने चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों का खर्च किया तय
निर्वाचन आयोग के अनुसार जिला परिषद सदस्य का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को 01 लाख तक खर्च करने की तक छूट दी गई हैं, तो वहीं मुखिया व सरपंच उम्मीदवार 40 हजार, पंचायत समिति सदस्य 30 हजार, ग्राम पंचायत सदस्य व पंच को 20 हजार खर्च तक खर्च करने की छूट दी गयी है। कोई भी प्रत्याशी राजनीतिक पार्टी के झंडा या बैनर का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।

राजनीतिक दल के नाम पर वोट मांगने वालों पर कार्रवाई
पंचायत चुनाव में किसी राजनीतिक पार्टी के नाम या चुनाव चिह्न के सहारे वोट मांगने पर भी आदर्श आचार संहिता के तहत कार्रवाई होगी। धर्म, जाति, समुदाय के आधार पर विभिन्न वर्गों के बीच शत्रुता या घृणा फैलाना को भी आदर्श आचार संहिता उल्लंघन माना जाएगा।

मस्जिद, मंदिर या अन्य पूजा स्थल का उपयोग नहीं होगा
अधिसूचना के बाद प्रचार के लिए मस्जिद, गिरजाघर, मंदिर या अन्य पूजा स्थलों का मंच के रूप में इस्तेमाल करना व जातीय या सांप्रदायिक भावनाओं की दुहाई देने पर भी कार्रवाई आयोग करेंगा। चुनाव के दौरान उम्मीदवारों को जुलूस के शुरू होने का समय व स्थान, मार्ग व किस समय किस स्थान पर जुलूस समाप्त होगा।

खबरें और भी हैं...