पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दोहरे मौसम का असर...:उल्टी-दस्त व वायरल बुखार के मरीज बढ़े, ओपीडी में 20 रोगी ज्यादा

गोपालगंज7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ओपीडी में इलाज के लिए लाइन में खड़े मरीज। - Dainik Bhaskar
ओपीडी में इलाज के लिए लाइन में खड़े मरीज।

इन दिनों मौसम का मिजाज हर पल बदल रहा है। नतीजतन लोग बीमारियों की गिरफ्त में आने लगे हैं। उमस भरी गर्मी, दूषित खानपान, पेय पदार्थों, बरसाती पानी के असर से उल्टी-दस्त, वायरल बुखार, टायफाईड, सर्दी-जुकाम से परेशान मरीज अस्पताल पहुंचने शुरू हो गए हैं। अस्पतालों के आउटडोर में 20त्न मरीजों का इजाफा हुआ है। डॉक्टरों ने बदलते मौसम में खानपान से लेकर तेज धूप और गर्मी में एहतियात बरतने की सलाह दी है। अस्पताल सूत्रों के अनुसार आउटडोर में रोजाना करीब 400 मरीज परामर्श के लिए पहुंच रहे थे। तापमान में बढ़ोतरी, दूषित पानी की शिकायतों, गर्मी से खराब भोजन, अन्य खाद्य सामग्री का उपयोग, धूप में बिना बचाव के निकलना, बारिश में भींगना, पानी नहीं पीना, मच्छरों के प्रकोप के चलते मरीजों की संख्या में एकदम से बढ़ोतरी हुई है।

कड़ी धूप तो कभी घनघोर बारिश से हर पल बदल रहा मौसम का मिजाज, फसलों के लिए फायदेमंद, सेहत का नुकसान

ऐसे कर सकते हैं बचाव
फिजिशियन डॉ. अमर कुमार ने बताया कि लापरवाही नहीं बरतें। बच्चे एवं बुजुर्ग दोपहर में बाहर नहीं निकले। वाहन पर बिना मुंह ढ़के आवाजाही नहीं करें। बार-बार पानी पिएं, पानी की कमी न होनें दें।

भर्ती मरीजों की संख्या में होने लगा इजाफा
आउटडोर में आ रहे 50 से 60 फीसदी मरीज उल्टी-दस्त, वायरल बुखार, खांसी-जुकाम के ही आ रहे हैं। बदलते मौसम को देखते हुए डॉक्टरों ने लोगों को एहतियात बरतने की अपील की है। गर्मी से अस्पताओं में भर्ती मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। उपचार व बेड आदि व्यवस्थाओं को लेकर सरकारी व निजी अस्पताल प्रबंधन जुटा हुआ है।

एहतियात बरतें ...हीट स्ट्रोक, डायरिया, डिहाइड्रेशन का खतरा
सदर अस्पताल के फिजिशियन डॉ. कौशर जावेद ने बताया कि उमस भरी गर्मी में शरीर में विशेष तौर पर पानी की अधिक जरूरत होती है। इस दौरान हमें खास तौर पर साफ पानी पीना चाहिए।

तापमान में उतार-चढ़ाव
मौसम में उतार-चढ़ाव पूरे महीना भर जारी रहेगा। इस दौरान दिन और रात के तापमान में कई अंतर दिखेगा। इसका प्रभाव लोगों के स्वास्थ्य पर भी पड़ेगा। मौसम वैज्ञानिक डॉ. संजय कुमार ने बताया कि आज मौसम का मिजाज पलट सकता है। कुछ जगहों पर बादलों की आवाजाही व अचनक तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है। शुक्रवार से शनिवार तक मौसम शुष्क रहने का अनुमान है। अधिकतम तापमान 35 से 37 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहेगा। वहीं न्यूनतम तापमान 25 से 27 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा।

परिवर्तनशील मौसम में किसानों को दोहरी फायदा
कृषि अनुसंधान केन्द्र पूषा के वैज्ञानिक डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि सितंबर में मौसम आमतौर पर परिवर्तनशील रहेगा। हालांकि यह किसानों के लिए फायदेमंद है। खासकर धान की फसलों के लिए। इन दिनों धान की बालियों में दाने लगने शुरू हो गए हैं। ऐसे में पुष्ट दानों के लिए धूप व बारिश दोनो फायदेमंद है।

खबरें और भी हैं...