पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मौसम:जनवरी में पहली बार गर्मी का एहसास, फसलों के लिए अनुकूल नहीं है मौसम, सुखाड़ का संकेत है यह बदलाव

गोपालगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मौसम में आई गर्माहट के कारण सड़क पर धूप का आनंद लेते हुए लोग। - Dainik Bhaskar
मौसम में आई गर्माहट के कारण सड़क पर धूप का आनंद लेते हुए लोग।
  • अगले सप्ताह मकर रेखा में प्रवेश कर जाएगा सूर्य, 15 जनवरी के बाद भाग जाएगी जाड़, इस बार भयंकर गर्मी से होगा सामना
  • पहले | पूस की रात में पड़ती थी हाड़ कंपाने वाली ठंड
  • इसबार | दिन में चुभती धूप, रात में चादर से चल जाता है काम

हिन्दी पंचांग के अनुसार अभी पूस का महीना चल रहा है। इसे शीतकाल का महीना कहा जाता है। इस महीने में सुबह से शाम व दिन से रात तक हाड़ कंपाने वाली ठंड पड़ती है। लेकिन पहली बार ऐसा देखने को मिल रहा है, कि जनवरी में ही गर्मी का एहसास हो रहा है। दिन की धूप चुभने लगी है। तापमान बढ़ने के कारण लोग रात में रजाई व कंबल आेढ़ना छोड़ दिए हैं। पूरी रात एक चादर से काम चल जा रहा है। मौसम में आया यह बदलाव जनजीवन के लिए अच्छा संकेत नहीं है। ना तो फसलों के लिए अनुकूल है और नहीं ग्लोबल वार्मिंग के लिए नजरिए से बेहतर साबित होगा। कुल मिलाकर यह सुखाड़ व अकाल का संकेत है। वैसे भी 15 जनवरी के बाद जाड़ भाग जाएगी। कारण कि अगले सप्ताह सूर्य के मकर रेखा में प्रवेश करने के बाद तपीश बढ़ने लगेगी। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि हाड़ कंपा देने वाली सर्दी भी इस बार पड़ने के आसार नहीं है। इसका कारण अलनीनो का प्रभाव बताया जा रहा है।

29 डिग्री के पार पहुंचा पारा
गुरुवार को दिन का तापमान 29.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि न्यूनतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस रहा। दिन में लोगों ने स्वेटर पहनना छोड़ दिया है। सुबह-शाम ही गुलाबी ठंड ह। रात में भी लोग महज एक चादर ओढ़कर सो रहे हैं। हालांकि गुरुवार को आसमान में बिखरे-बिखरे बादल भी छाए रहे।

पिछले साल की तुलना में अंतर
पिछले साल की तुलना में दिन का तापमान 10 से 11 डिग्री सेल्सियस अधिक चल रहा है। पिछले वर्ष कड़ाके की सर्दी का सिलसिला 13 दिसंबर से शुरू हो गया था। 7 जनवरी को न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेल्सियस पर था। 14 जनवरी तक सबसे अधिक सर्दी पड़ी थी।

पपिछले तीन साल का 7 जनवरी का तापमान
वर्ष अधिकतम न्यूनतम
2020 18.4 11.6
2019 19.2 10.4
2018 22.6 13.0

अगले तीन दिनों का संभावित तापमान
दिन अधिकतम न्यूनतम
शुक्रवार 29 13
शनिवार 27 14
रविवार 29 13

जानिए... क्यों नहीं पड़ी ज्यादा सर्दी
मौसम पर इसबार अलनीनो का प्रभाव सर्दी में भी देखने को मिल रहा है। मौसम वैज्ञानिक डॉ. संजय कुमार के अनुसार प्रशांत महासागर में पेरू के निकट समुद्री तट के गर्म होने की घटना को अलनीनो कहा जाता है। इसके प्रभाव के कारण सर्दियों का मौसम गर्म होता है।

इस बदलाव का जनजीवन पर क्या होगा प्रभाव?
वातावरण पर प्रभाव :-
अलनीनो के प्रभाव से समुद्र की सतह गर्म हो जाती है। इससे हवाओं के रास्ते और रफ्तार में परिवर्तन आ जाता है। जिसके चलते मौसम चक्र बुरी तरह से प्रभावित होता है। इस बदलाव के कारण कई स्थानों पर सूखा पड़ता है, तो कई जगहों पर बाढ़ आती है। मानसून पर उसका असर निश्चित रूप से पड़ता है। इससे पृथ्वी के कुछ हिस्सों में भारी वर्षा होती है तो कुछ हिस्सों में सूखे की गंभीर स्थिति भी सामने आती है।
फसलों पर प्रभाव :- शीत और काेहरा रबी फसलों में संजीवनी का काम करते हैं। पाले का असर नहीं होने से गेहूं के पौधों में कल्ले कम होंगे। पौधों का ग्रोथ भी कम होगा। इससे उत्पादन प्रभावित होगा। अनाज के दाने पुष्ट नहीं हो पाएंगे। सिंचाई के लिए ज्यादा पानी की जरूरत पड़ेगी। बलियों में काला रोग व सरसों की फूल पर लाही का अटैक बढ़ेगा।

मौसम में आगे क्या?
आज भी धूप की चुभन ज्यादा रहेगी। कल अधिकतम तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट आएगी। सोमवार तक तापमान में उतार-चढ़ाव जारी रहेगा। फिलहाल बारिश की उम्मीद नहीं होने से किसानों की परेशानी बढ़ सकती है। न्यूनतम पारा 13 डिग्री पर स्थिर रहेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें