सख्ती:गुठनी में नियम की अनदेखी कर किशोरी की जांच की

गुठनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गुठनी नव निर्मित नगर पंचायत के पश्चिमी माेहल्ला तुरहा टोली के जिस युवक ने बहन और परिवार की प्रतिष्ठा हनन होने पर आत्महत्या कर ली है उस युवक की बहन का मेडिकल जांच पीएचसी के चिकित्सक द्वारा नियम को ताक पर रखकर करवाया गया है।महिलाओं, लड़कियों के साथ हुये यौनाचार की घटना के बाद उसका मेडिकल जांच पुलिस अभिरक्षा में उसके सहमति सदर अस्पताल में होता है पीएचसी में ऐसे जांच का कोई प्रावधान नही है। इसके बावजूद शुक्रवार को गुठनी पीएचसी में एक ऐसा मामला सामने आया और चिकित्सक के निर्देश पर महिला स्वास्थ कर्मियों ने पीड़ित किशोरी का न केवल विधिवत जांच किया वल्कि उसका आंतरिक स्वाव लेकर उसी के परिजनों से जांच के लिए सीवान सदर भेज दिया। एम्बुलेंस से पीड़िता के भाई को इलाज के लिये सीवान सदर ले जाया जा रहा था तो उसकी चाची ज्ञानती देवी भी किशोरी की आंतरिक स्वाव को लेकर जांच के लिए उसी एम्बुलेंस से जा रही थी। चिकित्सक को जब इस बात की भनक लगी कि मामला तूल पकड़ लेगा तो उन्होंने एम्बुलेंस चालक को फोन कर रास्ते मे मैरवा के समीप रोकवाया और ज्ञानती देवी से स्वाव वाला सेम्पल ले लेने को कहा फिर एक आशा कार्यकर्ता को यह जिम्मेदारी दी। ज्ञानती देवी मामला को कुछ समझ न सकी और उनको लगा कि विपक्षी द्वारा कोई चाल चला जा रहा है।

खबरें और भी हैं...