पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:बारिश के बाद फसल में कीट-व्याधि का प्रकोप, किसानों की बढ़ी परेशानी

हरनौत21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हरनौत में खेत में सूख रहे धान का फसल। - Dainik Bhaskar
हरनौत में खेत में सूख रहे धान का फसल।

बारिश के बाद तेज धूप से हवा में नमी की मात्रा काफी बढ़ गई है। जिससे धान की फसल में बैक्टीरियल लीफ ब्लाइट नामक रोग का प्रकोप बढ़ रहा है। साथ ही फसल में जलजमाव से गलकी रोग भी बढ़ रहा है। इसके अलावा पत्ती लपेटक और तनाछेदक कीट का असर भी दिख रहा है। कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक डॉ. ब्रजेंदू कुमार ने कहा कि जिले के कई गांवों से किसानों ने धान की फसल में उत्पन्न समस्या की जानकारी दी है। इसकी मुख्य वजह तापमान का अत्यधिक बढ़ना है। बरसात के मौसम में जब बारिश की जरूरत हो। तापमान की अधिकता हो जाये तो हवा में नमी की मात्रा बढ़ जाती है। यह स्थिति कीट-व्याधि के लिए अनुकूल होती है। किसानों ने बताया कि पौधों की पत्तियां लाल होकर सूखने लगती है। इसकी वजह बैक्टीरियल लीफ ब्लाइट को बताया गया। उन्होंने कहा कि गर्मी और कीट के प्रकोप से पत्तियां प्रकाश संश्लेषण की क्रिया करने में असमर्थ होती जाती है। जिससे पत्ती सूखने लगती है। इसी तरह खेत में जलजमाव से पौधे की जड़ सड़ने लगती है। कहीं-कहीं पत्ती लपेटक और तनाछेदक कीट का प्रकोप भी है। प्रभारी वैज्ञानिक ने कहा कि संबंधित कीट-व्याधि के प्रकोप का लक्षण बताकर किसान विषय वस्तु विशेषज्ञ से दवा आदि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...