परेशानी का आलम:हाईस्कूल मैदान के पूरब में जलजमाव वर्षा में घर से निकलने में भारी परेशानी

हरनौत7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरनौत में जलजमाव का नजारा। - Dainik Bhaskar
हरनौत में जलजमाव का नजारा।
  • जलस्रोतों पर अतिक्रमण से जलनिकासी की समस्या गहराई, अब मुसीबत झेल रहे लोग

जल संसाधनों के अतिक्रमण से निकास बंद होने के कारण लगभग समूचे बाजार क्षेत्र में जलजमाव की समस्या उत्पन्न होती है। उनमें भी कई ऐसे गांव-टोले हैं, जहां जमा हुआ जल सूखने के पहले ही पुनः बारिश आ जाती है। इनमें हरनौत हाईस्कूल के पूरब पटेल नगर, गौतम नगर, नियामतपुर टोला खास है। घर के चारों ओर जलजमाव से लगी जलकुंभियां ही बताती है कि गर्मी में ऐसी स्थिति है तो बारिश का आलम क्या होगा। हालांकि इससे स्थाई निजात दिलाने की दिशा में प्रशासन द्वारा शुरू की गई कवायद से स्थानीय लोगों में समस्या के समाधान की आस जगी है। स्थानीय निवासी राजीव कुमार, नवीन कुमार, विपीन गुप्ता, मुरली मनोहर ने बताया कि पानी के निकास का मार्ग अवरुद्ध होने से जलजमाव की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। अब गंदा पानी रिहाइशी इलाकों में बहु भरने लगा है। जिससे पटेल नगर, गोनावां रोड बाजार, पंचशील नगर, डाकबंगला रोड में भी पानी निकलने के बजाय जमा हो जाता है। यही विडंबना प्रखंड परिसर की भी है। जिसके कारण वर्षों से बन रहा फुटबॉल स्टेडियम आज तक पूरा नहीं हो पाया है। गलियों में जुगाड़ से आने-जाने भर का रास्ता बचाये रखा है। पर बारिश के दिनों में उसपर भी चलना मुश्किल हो जाता है। इन्होंने बताया कि बच्चों को अकेले घर से निकलने पर हमेशा भय बना रहता है। जहरीले जीव अक्सर मंडराते हैं। घर में भी घुस जाते हैं। यही नहीं बाजार के चंडी रोड, आदर्श नगर, शिवाजी नगर में घर का पानी संपर्क पथ पर बहता दिख जाता है। वहीं कृष्णापुरी मोहल्ले में शौचालय आदि का पानी अक्सर एनएच-20 पर बहता दिखता है।
बन रही कार्ययोजना जल्द शुरू होगा काम
बाजार में जलजमाव की समस्या को लेकर बुद्धिजीवियों का एक प्रतिनिधिमंडल कुछ समय पहले सीएम नीतीश कुमार से पटना में मिला था। उन्होंने इसे प्राथमिकता से निपटाने की बात कह डीएम से प्रस्ताव भेजने को कहा था। इसके बाद से अब तक डीएम ने कई बार संबंधित विभागों के अधिकारियों व बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर सर्वसम्मति से हल निकालने की कोशिश की है। मैपिंग में लगे सरकारी अमीन की मानें तो जलनिकास के संसाधनों की उड़ाही, नये संसाधनों का सृजन करना आदि पर बात लगभग फाइनल हो गई है। इसमें ग्राउंड वाटर रिचार्ज हो इसको प्राथमिकता देनी है।

एनएचएआई भी मुहिम में शामिल : इधर पिछले सप्ताह डीएम ने बैठक में कार्य योजना के लिए मैपिंग के काम को अधूरा बताकर उसे फिर से पूरा करने का टास्क दिया है। इस बार डूडा, बुडको, लघु सिंचाई व जल संसाधन के साथ एनएच भी को-ऑपरेट करेगा। सरकारी अमीन ने बताया कि हरनौत बाजार में एनएच-20 पर एलिवेटेड फोरलेन रोड बननी है। नियमानुसार सड़क के दोनों ओर जलनिकास के लिए नाला भी बनता है। जिसे देखते हुए डीएम ने सभी प्रस्तावों को एकीकृत करते हुए बनाने को कहा है। डीएम ने कहा कि य ोजना ऐसी बने कि सर्वहितकारी संसाधन का कोई अतिक्रमण या दोहन नहीं कर सके। साथ ही उसका फायदा लोगों को लंबे समय तक मिले। इस संबंध में इसी सप्ताह के अंत में फिर से अधिकारी बैठेंगे और डीएम के समक्ष अपना प्रजेंटेशन देंगे।

आश्रितों को दिया जाएगा मुआवजा

हाईस्कूल मैदान के पूरब निकास के रास्ते पर निर्माण की जांच की जा रही है। यदि वह जमीन गैरमजरुआ होगी तो अतिक्रमण हटाया जायेगा। पर यदि वह रैयती होगा तो उसके आलोक में आश्रित को मुआवजा मिलेगा।

खबरें और भी हैं...