शिक्षक को गर्दन में मारी गोली, मौके पर मौत:दुकान से घर जा रहे थे शिक्षक, तभी बनाया गया निशाना, रफीगंज-गोह पथ के पुल समीप की घटना

हसपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृत शिक्षक का फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मृत शिक्षक का फाइल फोटो

शनिवार की देर शाम दुकान से घर जा रहे एक स्कूल शिक्षक को अज्ञात अपराधियों ने गर्दन में गोली मार दी। जिसके कारण घटनास्थल पर ही शिक्षक की मौत हो गई। घटना गोह थाना क्षेत्र के रफीगंज-गोह पथ के पुल समीप की है। मृतक 35 वर्षीय शिक्षक जुबैर आलम थाना क्षेत्र के चौठी बिगहा गांव का रहने वाला था।

पुलिस शव को अपने कब्जे में लेकर तहकीकात शुरू कर दी है। घटना के पीछे कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। घटना के बाद गोह में सन्नाटा पसर गया। शिक्षक की हत्या के बाद उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

पुल के नीचे घात लगाकर छिपे थे अपराधी, पहुंचते ही मारी गोली: सूत्रों के अनुसार जुबैर आलम अपने पिता के टेलर दुकान से शाम में घर जाने के लिए निकला। जैसे ही वह रफीगंज-गोह रोड में पुल के पास पहुंचा कि पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसपर गोली चला दी। गोली उसके गर्दन में लगी। गोली लगते ही वह जमीन पर गिर गया।

इसके बाद अपराधी मौके से फरार हो गए। अपराधियों की संख्या कितनी थी, यह फिलहाल पुलिस को पता नहीं चल पाया है। इसके साथ ही उसकी दुश्मनी किससे थी और किसने उसकी हत्या की, यह फिलहाल अबूझ पहेली है। जिसकी तहकीकात में पुलिस जुटी हुई है।

कभी बीडीओ का रहा था करीबी, फिलहाल प्रखंड कॉलोनी स्कूल में थी पोस्टिंग
मृतक शिक्षक जुबैर आलम गोह के प्रखंड कॉलोनी स्कूल में कार्यरत था। अधिकारियों को भी वह खूब भाता था। सूत्रों की मानें तो कुछ साल पहले एक बीडीओ का काफी करीबी था। बीडीओ के गाड़ी तक जुबैर आलम ही चलाता था और वह साया की तरह रहता था। काफी दिनों तक प्रखंड निर्वाचन में वह प्रतिनियुक्त रहा था, लेकिन उसकी दुश्मनी खुलेआम किसी से नहीं थी।

हत्या के बाद अब हर कोई यही बोल रहा है कि आखिर जुबैर की हत्या क्यों की गई? पुलिस को उम्मीद है कि अपराधियों को जल्द ही पता लगा लिया जाएगा। थानाध्यक्ष शमीम अहमद ने बताया कि पुलिस मामले की गंभीरता से तहकीकात कर रही है।

खबरें और भी हैं...