कोरोना का डर:रविवार से 5 दिन जरूरी सेवाओं को छोड़ सभी दुकानें व प्रतिष्ठान बंद

जहानाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शकुराबाद बाजार बंद में दुकानें बंद कराते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
शकुराबाद बाजार बंद में दुकानें बंद कराते अधिकारी।
  • आवश्यक वस्तुओं के वाहन व मेडिकल इमरजेंसी को प्रतिबंधों से रखा गया मुक्त, सिर्फ मेडिकल सेवाओं से जुड़े प्रतिष्ठान ही शाम चार बजे के बाद खुल सकेंगे, अगले आदेश तक लागू रहेगी व्यवस्था, सप्ताह में सिर्फ गुरुवार व शुक्रवार को ही खुल सकेंगी सभी प्रकार की दुकानें

जिले में संक्रमितों की लगातार बढ़ रही संख्या और लोगों की हो रही मौत को ध्यान में रखते हुए आखिरकार जिला प्रशासन ने कड़े कदम का एलान किया है। गुरुवार की देर शाम डीएम नवीन कुमार की अध्यक्षता में एसपी दीपक रंजन व वरीय अधिकारियों की उपस्थिति में डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रूप की बैठक में आगामी रविवार से जिले में अगले आदेश तक प्रत्येक सप्ताह पांच दिनों तक आवश्यक सेवाओं को छोड़ सबकुछ बंद रखने का निर्णय लिया है। डीएम ने बताया कि हालात बेहद खराब हो रहे हैं। ऐसे में संक्रमण की चेन तोड़ना अत्यंत जरूरी हो गया है।

उन्होने कहा कि जिला मुख्यालय के शहर के अलावा सभी प्रखंड मुख्यालय, टेहटा, बंधुगंज व ओकरी सहित भीड़ भाड़ वाले सभी कस्बाई बाजार में रविवार से अगले पांच दिनों तक आवश्यक सेवाओं को छोड़ किसी प्रकार की दुकाने या प्रतिष्ठाने नहीं खुलेंगी। उसके बाद गुरुवार व शुक्रवार को ही सिर्फ दो दिनो तक दुकानों को खोलने की आजादी दी जाएगी। इस दौरान सड़कों पर भी सिर्फ आवश्यक सेवाओं वाले वाहनों को ही परिचालित होने की अनुमति दी जाएगी। जिलाधिकारी ने बताया कि दुकानों को खुले रहने से बाजारों में भीड़ लग रही है। ऐसे में लोगों को आवाजाही बनी रहती है। ऐसे में कड़े कदम उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

मेडिकल सेवाएं, खाने-पीने के सामान के अलावा इमरजेंसी वाहनों को मिलेगी छूट
जिला प्रशासन के द्वारा इस संबंध में जारी आदेश के अनुसार जिले में संचालित मेडिकल सेवाओं, दुध, किराना दुकानें, फल की दुकानों व सब्जी की दुकानों सहित अन्य सभी प्रकार की दुकानों को रविवार से सप्ताह में पांच दिनों तक लगातार बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। एंबुलेंस व आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति से जुड़े वाहनों पर भी प्रतिबंध का असर नहीं पड़ेगा। शाम चार बजे के बाद सिर्फ मेडिकल दुकानों व क्लिनीकों को ही खोलने की आजादी होगी। नियमों को कड़ाई से पालन कराने के लिए सभी थानेदारों के अलावा प्रशासनिक स्तर पर गठित टीमों व मैजिस्ट्रेटों की तैनाती की गई है। नियमों के उलंघन पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। कोविड की जांच कराने व टीकाकरण के लिए लोगों को सेंटरों पर जाने की छूट होगी।

कड़े कदम उठाने के अलावा जिला प्रशासन के पास कोई उपाय नहीं
डीएम ने कहा कि जिस तरह प्रतिदिन संक्रमण के हालात बन रहे हैं, उसे देखते हुए कड़े कदम उठाने के अलावा दूसरा और कोई प्रभावी विकल्प नहीं बचा है जिससे संक्रमण पर नियंत्रण किया जा सके। उन्होने कठिन हालात में जिले वासियों से संयम बरतने की अपील करते हुए कहा कि कोरोना महामारी की लड़ाई लोगों के व्यापक हित व उनके जीवन सुरक्षा को लेकर उठाया जा रहा है। अगर हालात पर फिलहाल काबू नहीं पाया गया तो आगे स्थितियां और भी खराब हो सकती है। ऐसे में जिलेवासियों से अपील है कि थोड़ी मुश्किलों में रहकर भी कोरोना से लड़ाई में वे जिला प्रशासन के साथ मजबूती से खड़े हो ताकि कोरोना से मिलकर जीत हासिल किया जा सके।

खबरें और भी हैं...