पहल / साइबर सेफ्टी मैनुअल के माध्यम से ऑनलाइन शोषण से लेकर धोखाधड़ी से बचे सकेंगे बच्चे

X

  • कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की ऑनलाइन सुरक्षा को लेकर यह पहल की गई है

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

जहानाबाद. साइबर सेफ्टी मैनुअल के माध्यम से बच्चे ऑनलाइन शोषण से लेकर धोखाधड़ी से बचेंगे। कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की ऑनलाइन सुरक्षा को लेकर यह पहल की गई है। सीबीएसई बोर्ड ने डिजिटल अधिकारों, स्वतंत्रता के हनन जैसी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए यह सेफ्टी मैनुअल जारी किया है। सीबीएसई बोर्ड ने बच्चों के अंदर सेफ और हेल्दी ऑनलाइन आदतों के विकास को लेकर यह पहल की है।

आज बच्चों की डिजिटल दुनिया में पहुंच काफी बढ़ गई है। कोविड-19 के कारण अधिकांश स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाएं कराई जा रही हैं। ऐसे में ऑनलाइन क्राइम भी बढ़ गए हैं। बच्चे कई सारे ऐसी साइट के चंगुल में फंस जाते हैं, जिसकी वजह से यौन-उत्पीड़न, टॉचर्र जैसी समस्याएं सामने आ रही हैं।
डिजिटल नागरिकता के नौ आयाम शामिल 
इस मैनुअल में ऑनलाइन धमकी, इमोशनल टॉर्चर, सामाजिक बहिष्कार, धमकाना, ऑनलाइन यौन उत्पीड़न, साइबर कट्टरपंथ, धोखाधड़ी जैसे मामलों से सुरक्षा संबंधी विषय शामिल किए गए हैं। इसमें डिजिटल नागरिकता के नौ आयामों का जिक्र किया गया है। इसमें डिजिटल पहुंच, साक्षरता, संवाद, आचार, स्वास्थ्य, कुशलक्षेम, अधिकार, स्वतंत्रता, जवाबदेही, सुरक्षा और कानून शामिल है।
ऑनलाइन थ्रेट के बारे में मिलेगी जानकारी
सीबीएसई के अधिकारियों के अनुसार इस मैनुअल को साइबर पीस फाउंडेशन के सहयोग से तैयार किया गया है। इसमें छात्रों के लिए ज्ञान आधारित कई गतिविधियां भी सुझायी गई हैं। बहुत सारे युवा अलग-अलग तरह की टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल को लेकर आश्वस्त होते हैं और जानकारी के लिए इंटरनेट की मदद लेते हैं। लेकिन टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल को लेकर ऐसा भरोसा कई बार गुमराह करने वाला होता है।

बच्चे यह नहीं जानते कि सर्च टर्म कैसे काम करते हैं या फिर कॉमर्शियली दबाव बनाकर किसी कंपनी को सर्च इंजन की लिस्ट में ऊपर किया जा सकता है। उन्हें इससे जुड़े खतरों का कुछ पता नहीं होता, ऐसे में वे साइबर खतरों को बुलावा दे सकते हैं। इसके माध्यम से छात्रों को ऑनलाइन थ्रेट और एब्यूज के बारे में समझ होगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना