पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कवायद:ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा काको में हुई शुरू

जहानाबाद8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले दिन 90 मरीजों को उपलब्ध कराई गई चिकित्सा सुविधा, लोगों को परेशानियों से मिलेगी मुक्ति

अब गांवों के मरीजों को इलाज के लिए शहर की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। उनका इलाज उनके घर के पास पंचायत में स्थित हेल्थ सब सेंटर पर ही हो जाएगा। इस सेवा से जिले में सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को भी अब बेहतर व विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इस नई तकनीकी इलाज पद्धति से ग्रामीण इलाके के मरीजों को काफी सहुलियत मिलेगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को पटना से वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिए ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन का शुभारंभ करने के साथ ही जिले के काको प्रखंड में इस सेवा का मंगलवार को शुभारंभ किया गया।

सेवा के शुभारंभ के अवसर पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ शिवकुमार एवं डॉ अर्चना कुमारी ने संजीवनी टेलीमेडिसीन सेवा के जरिए विभिन्न रोगो के 90 मरीजों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई। सिविल सर्जन डॉ. श्रवण कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा जिले के स्वास्थ्य संस्थानों में हब एंड स्कोप प्रणाली से टेलीमेडिसिन की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। यह सुविधा सबसे पहले जिले के काको प्रखंड में उपलब्ध कराई गई। इसके साथ ही काको सहित दो प्रंखंडो में इस सेवा के जरिए चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराया जाएगा।

सीएस ने बताया कि ई-टेलीमेडिसिन एक ऐसी सुविधा है, जिसमें सूचना प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करके सुदूर ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाई जा सकती है। इस सुविधा के जरिये सामान्य बीमारियों जैसे सर्दी, बुखार, खांसी, सिर दर्द, पेट दर्द, त्वचा संबंधी बीमारी, संक्रामक रोग, शुगर, ब्लड प्रेशर, कैंसर आदि के उपचार के लिए टेलीमेडिसिन के जरिये चिकित्सक व विशेषज्ञ से निश्शुल्क परामर्श लिया जा सकता है। उन्होंने बताया कि यदि मरीज के पास एंड्राइड एण्ड्रोइड-स्मार्ट फोन है तो वह ‘ई-संजीवनी ओपीडी एप’ को इंस्टाल करके या फिर ‘ई-संजीवनी डॉट इन’ पोर्टल पर जाकर भी यह सुविधा प्राप्त कर सकता है।

3 दिन किया जाएगा इलाज ओपीडी का समय निर्धारित
ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन के अंतर्गत वीडियो कांफ्रेंसिग टेलीमेडिसिन के माध्यम से इलाज की व्यवस्था प्रतिदिन नहीं रहेगी। यह व्यवस्था सप्ताह में तीन दिन ही रहेगी। सिविल सर्जन ने बताया कि इसके तहत सोमवार, वृहस्पतिवार एवं शनिवार को इलाज की सुविधा मरीजों को दी जाएगी। उन्होंने बताया कि मरीज हेल्थ सब सेंटर में ओपीडी के समय में पूर्वाह्न 9 बजे से दो बजे तक चिकित्सकीय परामर्श का लाभ ले सकते हैं। हेल्थ मैनेजर अनुप कुमार ने बताया हब एवं स्पोक प्रणाली के रूप में कार्यरत होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

    और पढ़ें