अपील:गांव की गलियों से लेकर खलिहान तक पहुंचकर लाेगाें काे दिया जा रहा टीका

जहानाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
खेत में जाकर किसानों को टीका देते स्वास्थ्यकर्मी। - Dainik Bhaskar
खेत में जाकर किसानों को टीका देते स्वास्थ्यकर्मी।
  • कोरोना से बचने के लिए सभी लोग कराएं टीकाकरण लें दोनों डोज, किसी भी तरह की अफवाह से बचें, सावधानी बेहत ही जरूरी

कोविंड 19 का टीकाकरण अभियान चलाकर किया जा रहा है। मेगा वैक्सीनेशन के तहत प्रचार प्रसार कर आम लोगों तक इसका फायदा पहुंचाया जा रहा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पदाधिकारी विशेष रूप से कोरोना टीकाकरण को लेकर वर्तमान समय में सजग एवं चौकन्ना हैं। जिसका परिणाम भी देखने को मिल रहा है। पदाधिकारियों एवं प्रतिनिधियों के पहल पर छुटे हुए लोगों को प्रथम डोज के अलावा दूसरी डोज की वैक्सीन दी जा रही है। इस कार्यक्रम को शत-प्रतिशत पूरा करने के लिए चिकित्सा कर्मियों के द्वारा गांव की गलियों में ध्वनि विस्तारक यंत्र से प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है। कोरोना की तीसरी लहर से बचाव काे लेकर लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि हर हाल में टीकाकरण कराएं, अन्यथा आने वाला समय बहुत ही भयानक होने वाला है।

अभियान की सफलता काे लेकर जुटा विभाग
इस दौरान प्रखंड स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के कोविड-19 के नोडल पदाधिकारी डॉ. नंद बिहारी शर्मा स्वास्थ्य प्रबंधक शशांक शेखर हेल्थ एजुकेटर राजेंद्र प्रभाकर चिकित्सा प्रभारी पीएन चौधरी विशेष रूप से जुटे हुए हैं। चिकित्सा कर्मियों के द्वारा गांव के गलियों एवं दरवाजे दरवाजे घूम कर टीकाकरण कर रहे हैं। यही नहीं खेत खलिहानों में भी जाकर लोगों को काेराेनाराेधी टीका दिया जा रहा है। वहीं टीकाकरण को लेकर लोगों से अपील की जा रही है कि सभी लोग कराएं टीकाकरण, कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए कोरोनाराेधी टीका लेना ही एकमात्र उपाय है। सभी लोग सजगता से टीकाकरण कराएं।

शिविर लगाकर 60 लोगों का किया गया इलाज

सदर प्रखंड परिसर में अवस्थित बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर वाचनालय सह संग्रहालय परिसर में शाही रेस्पिरेटरी केयर के सौजन्य से डॉ. प्रवीण कुमार शाही ने दमा, छाती का टीवी, प्लूयूरल, एफ्यूजन, छाती का कैंसर एलर्जी एवं एओसीनिफिलिया कोविड-19 होने वाली फेफड़ों की समस्या सहित फेफड़े से संबंधित सभी प्रकार के रोग के लिए निशुल्क इलाज एवं जांच शिविर लगाया गया। शिविर का आयोजन समाजसेवी प्रिंस पांडे के द्वारा किया गया था। जबकि शिविर में पटना के डॉ. प्रवीण कुमार शाही को बुलाया गया था।

शिविर में लगभग 60 लोगों की मुफ्त पीएफटी एवं फेनो की जांच की गई। एवं सभी को इलाज किया गया व सभी को निशुल्क दवा भी दी गई। इलाज के दौरान डॉक्टर शाही ने बताया कि ऐसा शिविर समाजसेवियों द्वारा लगाना चाहिए। क्योंकि खासकर ग्रामीण क्षेत्र में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को इलाज में सहूलियत मिल सके। उन्होंने बताया कि अधिक से अधिक लोगों का इलाज हो इसके लिए वे समाजसेवियों के आग्रह पर वे स्वयं निशुल्क जांच के लिए आयोजित शिविर में आने का हामी भरी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में बहुतेरे ऐसे लोग हैं। जो पटना जा कर इलाज कराने में सक्षम नहीं है। क्योंकि आने जाने में वाहन भाड़ा के अलावे जांच कराने में अधिक पैसा लग जाता है। शिविर में जो लोग इलाज के लिए आए। उन्हें निशुल्क जांच कर ही निशुल्क दवा दिया गया।

समझाने के बाद लाेग ले रहे हैं कोरोनारोधी टीका
चिकित्सा कर्मियों की नई सोच यह है कि जो जिस जगह पर है, उसे समझा-बुझाकर काेराेनाराेधी टीका दिया जाए। क्योंकि इस समय ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्र के लोग खेत एवं खलिहान में जुटे हुए हैं,और उस जगह पर जब चिकित्सा कर्मी पहुंचते हैं तो स्वेच्छा से किसान एवं मजदूर टीकाकरण को लेकर राजी हो जा रहे हैं। हालांकि काम करने वाले मजदूर थोड़ा सा झिझक भी दिखा रहे हैं। किंतु चिकित्सा कर्मियों के समझाने बुझाने से वह टीका ले रहे हैं। वहीं लोगाें से अपील की जा रही है कि अन्य लोगांें को भी जागरूक करेें ताकि इस माहामरी पर विजय पाई जा सके और समाज को परेशानी से बचाया जा सके और परिवार को सुरक्षित रखा जा सके।

खबरें और भी हैं...