पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जागरुकता:आईआईएम बोधगया ने मनाया वर्ल्ड माइंडफुलनेस दिवस, माइंडफुलनेस का किया गया अभ्यास

बोधगया6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हम अपने भीतर शांति और सामंजस्य का अनुभव कर सकते हैं

माइंडफुलनेस आत्म-निरीक्षण द्वारा आत्मशुद्धि की साधना है। अपने ही शरीर और चित्तधारा पर पल-पल होने वाली परिवर्तनशील घटनाओं को तटस्थ भाव से निरीक्षण करते हुए चित्त विशोधन का अभ्यास, हमें सुख-शांति का जीवन जीने में मदद करता है। हम अपने भीतर शांति और सामंजस्य का अनुभव कर सकते हैं।

हमारे विचार, विकार, भावनाएं, संवेदनाएं जिन वैज्ञानिक नियमों के अनुसार चलते हैं, वे स्पष्ट होते हैं। आईआईएम बोधगया के माइंडफुलनेस सेंटर समत्वम ने वर्ल्ड माइंडफुलनेस दिवस पर माइंडफुलनेस का अभ्यास किया। इसमें आईआईएम की निदेशक डॉ विनीता सहाय, समत्वम: माइंडफुलनेस सेंटर की चेयरपर्सन डॉ निधि मिश्रा, प्रोफेसर्स एवं विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। माइंडफुलनेस एक ऐसी चीज है, जो हम सभी के पास स्वाभाविक रूप से होती है। यह हमारे लिए अधिक आसानी से उपलब्ध होती है, जब हम दैनिक आधार पर अभ्यास करते हैं।

खबरें और भी हैं...