समीक्षा:कोविड सेंटर में मरीजों और संसाधनों पर रखें नजर

जहानाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में मौजूद जिलाधिकारी व अन्य। - Dainik Bhaskar
बैठक में मौजूद जिलाधिकारी व अन्य।
  • जिलाधिकारी ने डाॅक्टरों व कर्मियों को मानवीय संवेदना व जिम्मेदारी से काम करने की दी हिदायत

संक्रमण से लगातार खराब हो रहे हालात के बीच जिलाधिकारी नवीन कुमार ने डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटरों में स्थापित आइसोलेशन वार्ड और आईसीयू कक्ष में प्रतिनियुक्त चिकित्सकों के साथ गुरुवार को बैठक कर वहां के ताजा हालात का जायजा लिया। उन्होने वहां प्रतिनियुक्त चिकित्सकों एवं नर्सों से लेकर चतुर्थ वर्गीय कर्मियों के रोस्टर तक की समीक्षा की। डीएम ने कहा कि हालात प्रतिदिन खराब हो रहे हैं। ऐसे में डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटरों की जिम्मेदारियां भी काफी बढ़ गई है।

डेडिकेटेड कोविड सेंटर स्थित आइसोलेशन वार्ड और आईसीयू को सुदृढ़ करने के लिए चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों की उपस्थिति तथा उनकी संवेदनशीलता के साथ सक्रियता अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने सभी संबंधित डाक्टरों व कर्मियों को अपने रोस्टरवार निर्धारित समय पर उपस्थित रहकर मरीजों को स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के लिए पूरी तत्परता से काम करने को कहा। उन्होने सभी स्वास्थ्य पदाधिकारियों एवं कर्मियों को निर्देशित किया कि कोरोना संक्रमित मरीजों का उचित एवं बेहतर उपचार जिला प्रशासन की प्राथमिकता है, जिसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। डीएम ने आइसोलेशन वार्ड एवं आईसीयू में प्रतिनियुक्त चिकित्सकों एवं नर्सों को निर्देश दिया कि वे खुद की सुरक्षा के प्रति भी सतर्क रहें।

वार्डों में पीपीई किट पहनकर समय-समय पर मरीजों की स्थिति का अनुश्रवण करना सुनिश्चित करें ताकि गंभीर मरीजों की जान खतरे में नहीं पड़े। उन्होने आईसीयू कक्ष में लगाए गए वेंटीलेटर को सदैव ऑपरेशनल मोड में रखने के लिए हर जरूरी उपाय करने के लिए सेंटर के इंचार्य को हिदायत दी। उन्होने कहा कि ऐसे आपातकाल के हालात में पूरी मानवीय संवेदना को साथ रखकर किसी प्रकार की कोताही या लापरवाही नहीं बरतें क्योंकि उनके हाथ में मरीजों की जिंदगी की सुरक्षा है।

जिलाधिकारी ने सिविल सर्जन को निर्देशित किया कि डीसीएचसी में ऑक्सीजन सिलेंडर का आकलन करते हुए आवश्यकता के अनुसार आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह से तत्पर रहें। अस्पातलों व कोविड सेंटरों में जरूरी दवाइयों, पीपीई किट, मास्क, ग्लब्स, सैनिटाइजर आदि आवश्यक वस्तुओं की चौबीसों घंटे आपूर्ति की लगातार मॉनिटरिंग कर नियमित रूप से उन्हें रिपोर्ट करें। किसी प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए वे स्वयं हर जरूरी मदद करने को तैयार बैठे हैं।

खबरें और भी हैं...